इजरायली सेना आए तो बंधकों को मार देना… हमास ने अपने लड़ाकों को दिया ऑर्डर, नेतन्याहू की बढ़ेगी टेंशन

गाजा पट्टी: इजरायल ने हाल ही में अपने चार बंधक नागरिकों को हमास की कैद से छुड़ाया है। इसके बाद माना जा रहा है कि इस तरह के कई और ऑपरेशन भी इजरायली बल कर सकते हैं। इसे देखते हुए हमास के नेताओं ने बंधकों की निगरानी के लिए तैनात किए गए अपने लड़ाकों को ज्यादा मुस्तैदी के साथ रहने के लिए कहा है। साथ ही आदेश दिए हैं कि अगर उन्हें लगता है कि इजरायली सेना आ रही है और कोई विकल्प नहीं तो सबसे पहले उन्हें बंदियों को गोली मार देनी है। न्यूयॉर्क टाइम्स ने इजरायली अधिकारियों के हवाले से की गई रिपोर्ट में ये दावा किया है। मध्य गाजा में नुसीरात से आईडीएफ द्वारा चार बंधकों को छुड़ाने के दो दिन बाद ये रिपोर्ट की गई है। रिपोर्ट में कहा गया है कि आईडीएफ के ऑपरेशन के समय कुछ बंधकों के मारे जाने का दावा किया जा रहा है। ऐसा है तो यह हमास के लड़ाकों ने ही किया है ना कि किसी और की वजह से ऐसा हुआ है क्योंकि आईडीएफ ने सीधे तौर पर हमास के इस दावे का खंडन किया है कि इजरायली हवाई हमलों में तीन बंधक मारे गए थे। रिपोर्ट कहती है कि पकड़े जाने की सूरत में हमास ने ही अपने लड़ाकों को बंधकों को मार डालने के ऑर्डर दिए हुए हैं।युद्ध विराम पर प्रस्तावइस बीच संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में गाजा में युद्ध विराम के लिए अमेरिका का प्रस्ताव पारित हो गया। इसके तहत बंधकों की रिहाई के बदले में इजरायल के साथ संघर्ष को समाप्त करने की जिम्मेदारी हमास पर डाल दी गई है। अमेरिका द्वारा लाये गए प्रस्ताव पर सोमवार को चीन सहित 14 सदस्य देशों ने वोट किया, जबकि रूस ने मतदान में भाग नहीं लिया। इसके साथ ही ये प्रस्ताव पारित हो गया। इसके तहत तीन-चरण में गाजा में शांति प्रस्ताव लागू किया जाएगा, जिसमें कतर और मिस्र की भूमिका भी होगी।ृअमेरिकी स्थायी प्रतिनिधि लिंडा थोमा-ग्रीनफील्ड ने मतदान के बाद कहा कि इस परिषद ने हमास को एक स्पष्ट संदेश दिया है कि युद्ध विराम समझौते को स्वीकार करो। इजरायल पहले ही इस समझौते पर सहमत हो चुका है और अगर हमास भी ऐसा ही करता है तो लड़ाई आज ही रुक सकती है। लिंडा थोमा-ग्रीनफील्डने कहा, ‘मिस्र और कतर ने अमेरिका को भरोसा दिया है कि वे हमास के साथ रचनात्मक तरीके से जुड़ने के लिए काम करना जारी रखेंगे और अमेरिका यह सुनिश्चित करने में मदद करेगा कि इजरायल भी अपने दायित्वों को पूरा करे, बशर्ते कि हमास इस समझौते को स्वीकार कर ले।’ इजरायली राजनयिक रीट शापिर बेन-नफ्ताली ने परिषद से कहा कि अगर हमास बंधकों को रिहा कर दे और आत्मसमर्पण कर दे तो युद्ध समाप्त हो जाएगा। एक भी गोली नहीं चलेगी। परिषद का यह प्रस्ताव अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन के इजरायल पहुंचने के बीच आया।