UK की टिप्पणी के लिए माफी मांग ली होती तो तो सांसदी छिनने की नौबत न आती.. रामदास आठवले ने ऐसा क्यों कहा

केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले ने शनिवार को कहा कि अगर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने यूनाइटेड किंगडम में की गई टिप्पणी के लिए माफी मांगी होती, तो उन्हें लोकसभा से अयोग्य नहीं ठहराया जाता। राहुल को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उपनाम के बारे में उनकी टिप्पणी के लिए मानहानि के मामले में गुजरात की एक अदालत द्वारा दो साल की जेल की सजा सुनाए जाने के एक दिन बाद अयोग्य घोषित कर दिया गया था। अखबार द टाइम्स ऑफ इंडिया से बात करते हुए आठवले ने कहा कि अगर राहुल गांधी ने यूके की टिप्पणी के लिए माफी मांग ली होती तो वो संसद सदस्यता नहीं गंवाते। इसे भी पढ़ें: झूठ बोलना राहुल गांधी की फितरत, रविशंकर प्रसाद ने किया पलटवार, कहा- वो हारे तो लोकतंत्र कमजोर, जीते तो मजबूतआठवले यूके में गांधी की टिप्पणियों के बारे में बात कर रहे थे जहां उन्होंने दावा किया था कि भारत अपने लोकतंत्र की बुनियादी संरचना पर हमले और देश के संस्थानों पर “पूर्ण पैमाने पर हमले” का सामना कर रहा था। उन्होंने ब्रिटिश सांसदों को यह भी बताया था कि विपक्षी नेताओं के माइक्रोफोन संसद में म्यूट कर दिए जाते हैं और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को एक “कट्टरपंथी” और “फासीवादी” संगठन के रूप में वर्णित किया। अपनी अयोग्यता के एक दिन बाद गांधी ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उद्योगपति गौतम अडानी के बीच संबंधों के बारे में सवाल पूछते रहेंगे।इसे भी पढ़ें: Giriraj Singh ने क्यों कहा, राहुल को लगा लालू का श्राप, जानें 10 साल पुरानी वह घटना जिसका खूब हो रहा जिक्रविपक्षी नेताओं ने प्रधानमंत्री पर अडानी समूह के संस्थापक गौतम अडानी का पक्ष लेने का आरोप लगाया है। संयुक्त राज्य अमेरिका स्थित फर्म हिंडनबर्ग रिसर्च द्वारा अपतटीय टैक्स हेवन और स्टॉक हेरफेर के अनुचित उपयोग का आरोप लगाने के बाद समूह संकट में पड़ गया।