कप्तानी पर्सनल रिकॉर्ड से ऊपर, कुछ साल और खेलूंगा, रोहित के धमाकेदार इंटरव्यू की 4 बड़ी बातें

नई दिल्ली: भारतीय कप्तान रोहित शर्मा ने टी-20 वर्ल्ड कप से ठीक पहले एक विदेशी यूट्यूब चैनल को इंटरव्यू दिया है। Dubai eye 103.8 नाम के यूट्यूब चैनल पर 21 मिनट 34 सेकंड के इस वीडियो में रोहित ने दिल खोलकर बातचीत की। तीनों होस्ट के सवालों का बेबाकी से जवाब दिया। इस लाइव ब्रॉडकास्ट पर 37 साल के रोहित शर्मा ने इंटरनेशनल क्रिकेट करियर, भारतीय क्रिकेट की कप्तानी जैसे चैलेंजिंग टॉपिक पर बातचीत की।अभी कुछ साल और खेलना चाहता हूंरोहित शर्मा ने कहा, ‘भारत के लिए 17 साल का सफर शानदार रहा है और उम्मीद है कि मैं अभी भी कुछ और साल खेलूंगा और विश्व क्रिकेट पर प्रभाव डालूंगा मैंने अपने जीवन में चढ़ाव से ज्यादा उतार देखे हैं और आज मैं जो भी इंसान हूं, वह अतीत में जो मैंने उतार-चढ़ाव देखा है, उसकी वजह से हूं।’ रोहित शर्मा भारत के अब तक के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में से एक हैं। 2007 में अपने डेब्यू लेकर अबतक उन्होंने साल दर साल खुद को निखारते हुए यहां तक का सफर तय किया है। बड़े-बड़े छक्के लगाने और लंबी पारी खेलने की उनकी क्षमता उन्हें अनोखा बल्लेबाज बनाती है।पर्सनल रिकॉर्ड से ऊपर है कप्तानी विराट कोहली का उत्तराधिकारी बनना एक चैलेंजिंग टास्क था, इस सवाल के जवाब में रोहित शर्मा कहते हैं, ‘भारत की कप्तानी करना मेरे लिए गर्व और सम्मान की बात है। मैंने कभी नहीं सोचा था कि यहां तक पहुंचूंगा और एक दिन टीम की कप्तानी करूंगा। अच्छी चीजें अच्छे लोगों के साथ होती है। जब मैंने टीम की कप्तानी संभाली तो तो मैं एक ही दिशा में आगे बढ़ना चाहता था। एक टीम स्पोर्ट्स गेम इसी तरह खेला जाना चाहिए। इसका पर्सनल माइलस्टोन, पर्सनल रिकॉर्ड से कोई लेना-देना नहीं है। 11 खिलाड़ी मिलकर खेले और ट्रॉफी जीते यही उद्देश्य होना चाहिए।डेल स्टेन के वीडियो 100 बार देखेरोहित शर्मा ने साउथ अफ्रीका की पिचों को वर्ल्ड में सबसे चैलेंजिंग बताया। बकौल रोहित साउथ अफ्रीका के हर मैदान में आपको अलग-अलग टेस्ट देना पड़ता है। दक्षिण अफ्रीका एक कठिन और चुनौतीपूर्ण जगह है। यहां तेज और उछालभरी पिच बहुत कुछ करती है। मजेदार खुलासा करते हुए रोहित कहते हैं, ‘बल्लेबाजी करने जाने से पहले मैंने डेल स्टेन के वीडियो 100 बार देखे थे। वह एक लीजेंड हैं और उन्होंने जो हासिल किया है वह शानदार है, उनके खिलाफ खेलना अच्छा था, ऐसा नहीं है कि मुझे उनके खिलाफ बड़ी सफलता मिली थी, लेकिन मैंने अपनी लड़ाई का आनंद लिया।’मेरे घर में पत्थर नहीं फेंक सकतेरोहित शर्मा की माने तो भारत में क्रिकेट कुछ अलग है और यह यूरोप में फुटबॉल की तरह ही है, शायद यहां भारत में उससे 10 गुना ज्यादा बड़ा। एक सवाल के जवाब में रोहित शर्मा कहते हैं, ‘जब चीजें आपके अनुकूल होती हैं और आप अच्छे होते हैं तो लोग आपको भगवान की तरह दिखने लगते हैं, लेकिन अगर चीजें आपके अनुकूल नहीं होती हैं, तो आपकी परेशानियां बढ़ जाती है। पूर्व क्रिकेटर्स के घर में पत्थरबाजी हो चुकी है, लेकिन मेरे साथ नहीं हुई क्योंकि मैं हाईराइज बिल्डिंग में रहता हूं (हंसते हुए)।