MP: पत्नी से नाराज पति ने की बेटे-बेटी की हत्या, पत्थर से कुचल कर शव को जंगल में फेंका

खंडवा: पत्नी के छोड़ जाने का गुस्सा अपने ही बच्चों पर निकालने वाले युवक को पुलिस ने न्यायालय में पेश कर जेल भेज दिया है. दरअसल पति की नशे की आदत के चलते पत्नि घर छोड़कर चली गई थी. ऐसे में नशेड़ी पिता को अपने दो बच्चे संभालना भारी पड़ने लगा. उस पर पत्नी ने भी बच्चों को साथ रखने से मना कर दिया. इतना ही नहीं युवक के ससुर ने शादी में खर्च किए सोलह हजार रुपए भी उसे वापस मांगने शुरू कर दिए थे. जिससे परेशान होकर नशेड़ी पिता ने अपने दोनों मासूम बच्चों की हत्या कर दी थी. ये मामला मध्य प्रदेश के खंडवा जिले का है.

पंधाना थाना क्षेत्र के ग्राम लाल माटी का रहने वाला जादू पिता लिमड़ा बारेला अपने ही मासूम बच्चों का कातिल बन बैठा. आरोपी पिता हत्या के इरादे से अपने बच्चों को बाइक पर बैठाकर जंगल में ले गया, जहां उसने एक करके अपने दोनों बच्चों कि हत्या कर दी. बेरहम बाप ने हत्या कर अपने दोनों बच्चों के शव जंगल में ही फेंक दिए.
पिता के साथ बच्चों को ना देख मां को हुआ शक
इतना ही नहीं ये सब करके आरोपी पत्नी सादूबाई से मिलने पहुंच गया, लेकिन जब पत्नी को पति के साथ में बच्चे नहीं दिखे तो उसे शक हो गया. जिसके बाद उसकी पत्नी ने बच्चों के बारे में पूछताछ की, लेकिन जादू बारेला कोई जवाब नहीं दे सका. तब उसकी पत्नी सादूबाई ने अपने भाई गोपाल को बच्चों के लापता होने कि बात बताई. गोपाल ने आशंका जताते हुए आठ मार्च को पुलिस में शिकायत दर्ज कराई. जिसकी शिकायत मिलते ही पंधाना थाना पुलिस ने जादू से पूछताछ की तो मामला हत्या का निकला.
पैरों के बीच दबाकर दोनों बच्चों का गला मरोड़कर ली पिता ने जान
खंडवा पुलिस अधीक्षक विवेक सिंह ने बताया कि घटना के बाद से ही आरोपी जादू ने खाना-पीना छोड़ दिया था. पुलिस ने जब उसे हिरासत में लिया तो उसकी हालत खराब थी. मामले की गंभीरता देखते हुए पहले तो पुलिस ने आरोपी का इलाज कराया, फिर उसे नारियल पानी पिलाकर मनोवैज्ञानिक ढंग से पूछताछ की तो राज खुला. आरोपी ने बताया कि पांच मार्च के दिन उसने 5 साल के बेटे वरुण और 3 साल की बेटी सुनीता को बाइक पर बैठाया. उनसे कहा कि वह उन्हें दीवाल गांव में भगोरिया का मेला घुमा कर उन्हें अंबाखेड़ा गांव जाकर उनकी मां सादूबाई के पास छोड़ देगा, लेकिन गांव से थोड़ी दूर जाकर जंगल में बाइक रोक दी.

ये भी पढे़ं-MP TET परीक्षा की आंसर-की जारी, esb.mp.gov.in पर करें चेक, जानें आपत्ति करने का तरीका

बच्चों को उतारा और सुनसान जगह पर ले गया. सबसे पहले 5 साल के बेटे वरुण को पैरों के बीच दबाया और गला मरोड़ दिया. इसी तरह 3 साल की बेटी सुनीता के साथ किया. इसके बाद दोनों का पत्थर से सिर कुचल दिया.
पुलिस ने आरोपी को भेजा जेल
इसके बाद पुलिस के सामने शव तलाश करना चुनौती था. पुलिस सुबह से लेकर रात तक जंगल में भटकती रही. 36 घंटे की मशक्कत के बाद इटारिया के जंगल में शव तलाश करने में पुलिस को सफलता मिल गई. जंगल से मासूम वरुण का क्षत विक्षत शव मिला, जबकि सुनीता का शव नहीं मिला. उसकी फ्राक, सिर के बाल आदि मिले थे.

ये भी पढे़ं- रंगपंचमी मेले में आईं डांसरों का HIV टेस्ट, CMO बोले- कैरेक्टर पर भरोसा नहीं कर सकते

इसके चलते पुलिस ने शव की शिनाख्त के लिए डीएनए सैंपल लिए है. जादू और उसकी पत्नी के ब्लड सेम्पल लिए गए. वारदात के बाद आरोपी पिता को पंधाना पुलिस ने एक दिन की रिमांड पर लेकर घटना का रिक्रिएशन कर आरोपी से बाइक भी जब्त की. रविवार को पुलिस ने आरोपी को न्यायालय में पेश किया, जहां से उसे जेल भेज दिया.