केरल में नरबलि मामले में मानवाधिकार आयोग ने भेजा नोटिस, कहा- नागरिकों की सुरक्षा राज्य की जिम्मेदारी

केरल में नरबलि के मामले में अब राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (NHRC) ने एक नोटिस जारी किया है. यह नोटिस राज्य के चीफ सेक्रेटरी और डायरेक्टर जनरल ऑफ पुलिस को भेजा गया है. नोटिस में 4 हफ्तों के अंदर रिपोर्ट सबमिट करने को कहा गया है. रिपोर्ट में नरबलि केस की जांच की पूरी जानकारी मांगी गई है. नोटिस में यह भी लिखा है कि अगर पीड़ित परिवारों को किसी तरह की मुआवजा राशि भी दी गई है तो वह भी रिपोर्ट में लिखना है.
आयोग ने नोटिस में लिखा है कि ऐसे क्राइम समाज में आपेक्षित नहीं है जहां बिना कानून के डर के एक इंसान को सिर्फ जादू-टोने के लिए मार दिया जाए. दोनों पीड़िताओं के ‘जीवन के अधिकार’ का घोर उल्लंघन हुआ है. राज्य में रहने वाले लोगों का गार्जियन राज्य सरकार होती है. वहीं नागरिकों के सुरक्षा के लिए जिम्मेदार होती है.यह उनकी ही जिम्मेदारी है कि वह अपने नागरिकों को ऐसे भयानक घटनाओं से बचाएं.
क्या है मामला
पथनमथिट्टा जिले के एलंथूर गांव में काला जादू करने के लिए दो महिलाओं की कथित हत्या करने का यह मामला 11 अक्टूबर को सामने आया था. इस मामले में मुख्य आरोपी मोहम्मद शफी (52) के साथ भागवल सिंह (68) और उसकी पत्नी लैला (59) को गिरफ्तार किया गया है. पुलिस के अनुसार, शफी ने दंपति को आश्वस्त किया था कि नर बलि से उनकी आर्थिक तंगी दूर हो जाएगी और उन्हें समृद्धि मिलेगी. इसके बाद, उन्होंने कथित तौर पर दो महिलाओं की बलि दे दी.

Kerala Human Sacrifice Case | NHRC has issued notices to the Chief Secretary & Director General of Police, Kerala calling for a report in the matter within 4 weeks, including status of the investigation of the case and compensation, if any, paid to the families of the victims. pic.twitter.com/J4kHCPi3S8
— ANI (@ANI) October 15, 2022

6 जून को गायब हुई थी महिला
नोटिस में यह लिखा गया है कि खबरों के मुताबिक दोनों ही महिलाएं सड़क किनारे लॉटरी बेचने का काम करती थी. इनमें से एक महिला की गायब होने की खबर 6 जून को सामने आई थी इसके बाद दूसरी महिला 26 सितंबर को गायब हुई थी. रिपोर्ट्स के मुताबिक दोनों ही मर्डर एक ही दिन किए गए हैं.