दिल्ली में घना कोहरा कब तक रहेगा? गलन बढ़ाते मौसम का अपडेट जान लीजिए

नई दिल्ली: राजधानी दिल्ली और एनसीआर में इन दिनों सुबह 10-11 बजे तक कोहरा छाया रहता है। ठंड भी पिछले 24 घंटों में बढ़ी है। दिल्ली में सुबह के समय कोहरे के चलते दृश्यता काफी कम रहती है। क्षेत्रीय मौसम पूर्वानुमान केंद्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने बताया है कि अगले दो दिनों तक इसी तरह घने कोहरे की स्थिति बनी रहेगी। तापमान 6 से 7 डिग्री सेल्सियस के बीच रहेगा। बीकानेर में आज न्यूनतम तापमान 4.6 डिग्री दर्ज किया गया है। हर साल दिसंबर-जनवरी के महीने में गंगा के मैदानी और उत्तर-भारतीय क्षेत्र में कोहरा छाना आम बात है और करीब 60 प्रतिशत दिन कोहरा छाया रहता है। मौसम विभाग का अनुमान है कि अगले कुछ दिनों में तापमान और गिरेगा, जिससे गलन बढ़ेगी।

कोहरे का रेल ट्रैफिक पर भी असर

इससे पहले दिल्ली सहित गंगा के मैदानी इलाकों में सुबह घना कोहरा छाए रहने से सड़क और रेल यातायात प्रभावित हुआ। सुबह 20 ट्रेनें डेढ़ से साढे़ चार घंटे की देरी से चल रही थीं। हवाई अड्डे के एक अधिकारी ने बताया कि हवाई यातायात पर कोहरे का कोई असर नहीं पड़ा। मौसम विभाग के अनुसार, दृश्यता शून्य से 50 मीटर के बीच रहने पर ‘बेहद घना कोहरा’, 51 मीटर से 200 मीटर के बीच ‘घना कोहरा’, 201 मीटर से 500 मीटर के बीच ‘मध्यम कोहरा’ और 501 से 1,000 मीटर के बीच ‘हल्का कोहरा’ माना जाता है। पालम और सफदरजंग हवाई अड्डे पर सुबह साढ़े पांच बजे दृश्यता 200 मीटर दर्ज की गई। मंगलवार को इन दोनों स्थानों पर दृश्यता का स्तर 50 मीटर तक चला गया था।

कम तापमान, उच्च नमी और स्थिर हवाओं के कारण पंजाब, हरियाणा, उत्तर-पश्चिम राजस्थान, पश्चिम और पूर्वी उत्तर प्रदेश और बिहार में घने से बहुत घने कोहरे की परत बनी हुई है। आईएमडी के एक अधिकारी ने कहा, ‘उपग्रह से ली गई तस्वीरों में पंजाब और उत्तर-पश्चिम राजस्थान से बिहार तक घने कोहरे की परत नजर आ रही है।’ सुबह साढ़े पांच बजे बठिंडा में दृश्यता का स्तर शून्य रहा, गंगानगर, चंडीगढ़, गोरखपुर और बरेली में 25 मीटर और अमृतसर, चूरू, बहराइच, अंबाला में 50 मीटर रहा।

कोहरे का जिम्मेदार कौन?

दिल्ली में सफदरजंग वेधशाला ने न्यूनतम तापमान सामान्य से एक डिग्री कम यानी 7.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया। अधिकतम तापमान 21 डिग्री सेल्सियस के करीब रहने की संभावना है। बुधवार को राष्ट्रीय राजधानी में अधिकतम तापमान 21.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो इस मौसम में अब तक का सबसे कम तापमान है। अगले कुछ दिनों में न्यूनतम और अधिकतम तापमान गिरकर क्रमश: पांच डिग्री सेल्सियस और 20 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच सकता है। इस वर्ष की शुरुआत में ‘नेचर’ पत्रिका में प्रकाशित एक अध्ययन ने भारत के पश्चिमी तट पर अरब सागर से आई तीव्र नमी को गंगा के मैदानी इलाकों में कोहरे की तीव्रता के लिए जिम्मेदार ठहराया था।

(एएनआई और भाषा के इनपुट के साथ)