Hockey World Cup 2023: इन खिलाड़ियों पर भारत को चैंपियन बनाने की जिम्मेदारी, युवा और अनुभव का है मिश्रण

हॉकी विश्व कप 2023 की मेजबानी भारत कर रहा है। 13 जनवरी को भारत के ओडिशा में हॉकी विश्व कप खेला जाएगा। हॉकी विश्व कप के मुकाबले भुवनेश्वर के कलिंगा स्टेडियम और राउरकेला के बिरसा मुंडा इंटरनेशनल हॉकी स्टेडियम में खेले जाएंगे। यह 13 जनवरी से 29 जनवरी तक चलेगा। भारत को अपना पहला मुकाबला 13 जनवरी को स्पेन के खिलाफ खेलना है। यह मुकाबला राउरकेला के बिरसा मुंडा हॉकी स्टेडियम में खेला जाएगा। हॉकी विश्वकप के लिए टीम इंडिया का ऐलान भी हो गया है। हॉकी विश्व कप के 18 सदस्य टीम का कप्तान डिफेंडर हरमनप्रीत सिंह को चुना गया है। वहीं, डिफेंडर अमित रोहिदास टीम के उप कप्तान होंगे।  इसे भी पढ़ें: India In Hockey: World Cup में सिर्फ एक बार ही चैंपियन बनी है टीम इंडिया, 1975 में Pak को हराया थायह है टीमगोलकीपर- कृशन बी पाठक और पी आर श्रीजेश डिफेंडर: हरमनप्रीत सिंह, अमित रोहिदास, सुरेंदर कुमार, वरूण कुमार, जरमनप्रीत सिंह और नीलम संजीप सेस मिडफील्डर: विवेक सागर प्रसाद, मनप्रीत सिंह, हार्दिक सिंह, नीलाकांता शर्मा, शमशेर सिंह और आकाशदीप सिंह फॉरवर्ड: मनदीप सिंह, ललित उपाध्याय, अभिषेक और सुखजीत सिंह वैकल्पिक खिलाड़ी: राजकुमार पाल और जुगराज सिंह।टीम में युवा और अनुभवी खिलाड़ियों को चुना गया है जिनकी नजरें विश्व कप में भारत का लंबा इंतजार खत्म करने पर लगी होंगी। तोक्यो ओलंपिक टीम का हिस्सा रहे गुरजंत सिंह और दिलप्रीत सिंह मुख्य टीम में नहीं हैं लेकिन स्टैंडबाय के रूप में रहेंगे। श्रीजेश का यह चौथा विश्व कप है और अपनी धरती पर तीसरी बार खेल रहे हैं। कृशन बी पाठक- पाठक का जन्म 24 अप्रैल 1997 को कपूरथला, पंजाब में हुआ था। पाठक की खेल में रुचि नहीं नहीं थी, पर पिता के आग्रह पर उन्होंने 12 साल की उम्र में हॉकी अकादमी में शामिल हुए। पाठक उस भारतीय जूनियर टीम का हिस्सा थे जिसने लखनऊ में 2016 पुरुष हॉकी जूनियर विश्व कप जीता था। उन्होंने जनवरी 2018 में भारत की सीनियर टीम में पदार्पण किया। पी आर श्रीजेश- भारत के पूर्व कप्तान रह चुके श्रीजेश ने 2004 में जूनियर नेशनल टीम के लिए खेला था। 2006 में इन्हें सीनियर टीम में शामिल किया गया। क्रिकेट टीम इंडिया के वरिष्ठ खिलाड़ी हैं। केरल से आते हैं। 2021 महीने खेल रत्न अवार्ड से सम्मानित किया गया। हरमनप्रीत सिंह- वह उस हॉकी टीम का हिस्सा थे जिसने टोक्यो 2020 ग्रीष्मकालीन ओलंपिक खेलों में भारत के लिए कांस्य पदक जीता था। सिंह ने न्यूजीलैंड के खिलाफ भारत की जूनियर टीम के लिए पदार्पण किया। हरमनप्रीत सिंह को अप्रैल 2015 में सीनियर टीम में शामिल किया गया। वह अमृतसर से आते हैं। अमित रोहिदास- रोहिदास का जन्म 10 मई 1993 को सुंदरगढ़ जिले के सौनमारा गांव में हुआ था। इन्हें 2009 में राष्ट्रीय जूनियर टीम में चुना गया था। रोहिदास को 2013 एशिया कप के लिए सीनियर टीम में चुना गया था। वह 2020 ओलंपिक में कांस्य पदक जीतने वाली भारतीय टीम का हिस्सा थे।सुरेंदर कुमार- यह हरियाणा के करनाल से आते हैं। वह 2016 और 2020 ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में भाग लेने वाली भारतीय हॉकी टीम का हिस्सा थे। 2013 में भारत के सीनियर टीम के लिए मुकाबला खेला। वरूण कुमार- हिमाचल से आने वाले वरूण कुमार पंजाब वारियर्स के लिए हॉकी इंडिया लीग में और भारतीय राष्ट्रीय टीम में डिफेंडर के रुप में खेलते हैं। जरमनप्रीत सिंह- पंजाब से आने वाले जरमनप्रीत सिंह 2018 पुरुषों की हॉकी चैंपियंस ट्रॉफी में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पदार्पण किया, जहां भारत ने रजत पदक जीता था। यह बर्मिंघम कॉमनवेल्थ गेम में भी खेल चुके हैं। नीलम संजीप सेस- उन्होंने 2016 दक्षिण एशियाई खेलों में राष्ट्रीय सीनियर टीम के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पदार्पण किया। उन्होंने 2016 के अंडर -18 एशिया कप में भारत की कप्तानी की।  इसे भी पढ़ें: India and Hockey: क्या हैं भारत में हॉकी का इतिहास, कैसे देश के कोने-कोने में यह होता गया लोकप्रियविवेक सागर प्रसाद- जनवरी 2018 में, वह 17 साल, 10 महीने और 22 दिन की उम्र में भारत के लिए डेब्यू करने वाले दूसरे सबसे कम उम्र के खिलाड़ी बने। यह 2020 ओलंपिक खेलों में कांस्य पदक जीतने वाली भारतीय टीम का हिस्सा थे। यह मध्य प्रदेश से आते हैं।मनप्रीत सिंह- मनप्रीत सिंह की कप्तानी में टोक्यो 2020 ओलंपिक में भारतीय फील्ड हॉकी टीम ने कांस्य पदक जीता। उन्होंने पहली बार 2011 में 19 साल की उम्र में भारत के लिए खेला था। वह पूर्व भारतीय हॉकी कप्तान पद्म श्री परगट सिंह से प्रेरित थे। यह पंजाब से आते हैं। हार्दिक सिंह- भारतीय जूनियर टीम के उप-कप्तान बनने के बाद, उन्होंने 2018 एशियाई पुरुष हॉकी चैंपियंस ट्रॉफी में पदार्पण किया। यह 2018 पुरुष हॉकी विश्व कप में भारत की टीम का हिस्सा थे। यह भी पंजाब से आते हैं। नीलाकांता शर्मा- वह 2016 पुरुष हॉकी जूनियर विश्व कप जीतने वाली भारतीय टीम का हिस्सा थे। इंफाल पूर्व से आने वाले, नीलाकांता ने 2003 में हॉकी खेलना शुरू किया। शमशेर सिंह- इन्होंने 2019 मेन्स रेडी स्टेडी टोक्यो हॉकी टूर्नामेंट में राष्ट्रीय सीनियर टीम के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पदार्पण किया। यह भी पंजाब से आते हैं। आकाशदीप सिंह- सिंह युवा भारत हॉकी पक्षों के कप्तान थे और भारत के सीनियर टीम का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं। उन्होंने रियो में ओलंपिक 2016 खेला। सिंह ने 2018 राष्ट्रमंडल खेलों में भारत का प्रतिनिधित्व किया है। 2018 एशियाई चैंपियंस ट्रॉफी में उन्हें प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।मनदीप सिंह- पंजाब से आने वाले सिंह ने 18 फरवरी 2013 को फिजी के खिलाफ 2012-14 हॉकी वर्ल्ड लीग के दूसरे दौर के दौरान भारत की पुरुषों की राष्ट्रीय फील्ड हॉकी टीम के लिए पदार्पण किया।  ललित उपाध्याय- यह 2020 ओलंपिक खेलों में कांस्य पदक जीतने वाली भारतीय टीम के सदस्य थे। ललित वाराणसी से आते हैं।