हॉकी प्रो लीग: भारत की पुरुष और महिला टीमों को यूरोपीय चरण का फायदा उठाने की उम्मीद

भारतीय पुरुष हॉकी टीम ओलंपिक से पहले बुधवार को अर्जेन्टीना के खिलाफ मुकाबले से शुरू हो रहे एफआईएच प्रो लीग के कठिन यूरोपीय चरण के दौरान अपनी कमियों को दूर करने की कोशिश करेगी।
भारतीय महिला हॉकी टीम भी नई कप्तान सलीमा टेटे की अगुवाई में जब अर्जेन्टीना से भिड़ेगी तो पेरिस खेलों के लिए क्वालीफाई नहीं कर पाने की निराशा से उबरने का प्रयास करेगी।
ड्रैग फ्लिकर हरमनप्रीत सिंह की अगुवाई वाली पुरुष टीम ऑस्ट्रेलिया के हाथों टेस्ट सीरीज में 0-5 से सूपड़ा साफ होने के बाद इस टूर्नामेंट में खेलते हुए नजर आएगी और पेरिस खेलों से पहले जीत की राह पर लौटने के लिए यूरोप में मिले मौके का पूरा फायदा उठाना चाहेगी।
हरमनप्रीत ने कहा, ‘‘इसमें कोई शक नहीं कि हमारा ध्यान ओलंपिक पर है, लेकिन हमें अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए चैंपियन (प्रो लीग में) बनने और 2026 हॉकी विश्व कप के लिए सीधे क्वालीफाई करने की भी जरूरत है।’’
भारतीय टीम अभी आठ प्रो लीग मैच में 15 अंकों के साथ तीसरे स्थान पर है। नीदरलैंड 26 अंक (12 मैच) के साथ शीर्ष पर है जबकि ऑस्ट्रेलिया 20 अंक (8 मैच) के साथ दूसरे पायदान पर है।
कप्तान ने कहा, ‘‘इन दोनों लक्ष्यों (ओलंपिक से पहले अच्छा प्रदर्शन करना और 2026 विश्व कप के लिए सीधे क्वालीफिकेशन हासिल करना) को हासिल करने के लिए हम मैदान पर अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने और अपने सभी मैच जीतने का प्रयास करेंगे।’’
अर्जेंटीना के अलावा भारतीय पुरुष टीम बेल्जियम, जर्मनी और ग्रेट ब्रिटेन के खिलाफ भी अपनी ओलंपिक की तैयारियों को परखेगी।
प्रो लीग तालिका में छठे स्थान पर काबिज भारतीय महिलाओं के पास बुधवार को दुनिया की सातवें नंबर की टीम अर्जेंटीना के खिलाफ मुकाबले के साथ तालिका में ऊपर चढ़ने का मौका है।
दुनिया की छठे नंबर की टीम भारत ने प्रो लीग के घरेलू चरण में आठ मैच में आठ अंक हासिल किए जिसमें अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ जीत भी शमिल हैं।
नवनियुक्त कप्तान सलीमा ने कहा कि इस महीने की शुरुआत में भारत में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ मैत्री मैचों से उनकी टीम को प्रो लीग के यूरोपीय चरण के लिए तैयार होने में मदद मिली।
महिला वर्ग में चीन आठ मैचों में 15 अंक के साथ तालिका में दूसरे स्थान पर है जबकि शीर्ष पर मौजूद नीदरलैंड ने अपने सभी 12 मैच जीतकर 36 अंक जुटाए हैं।
अर्जेंटीना के बाद महिला टीम 23 मई को बेल्जियम से भिड़ेगी जबकि पुरुष टीम एक दिन बाद मेजबान का सामना करेगी। महिला और पुरुष टीमें 25 मई को फिर से बेल्जियम से भिड़ेंगी।
भारत की महिला और पुरुष टीमें 26 मई को अर्जेंटीना के खिलाफ मैचों के साथ यूरोपीय दौरे के पहले चरण का समापन करेंगी। इससे बाद लंदन में अंतिम चरण में भारतीय टीमों का सामना एक और आठ जून को जर्मनी से तथा दो और नौ जून को मेजबान ग्रेट ब्रिटेन से होगा।