हॉकी खिलाड़ी वरुण कुमार पर नाबालिग से रेप का आरोप, भारतीय टीम के लिए जीते हैं कई खिताब

भारतीय हॉकी खिलाड़ी वरूण कुमार के खिलाफ पॉक्सो (यौन अपराधों से बच्चों के संरक्षण अधिनियम) कानून के तहत मामला दर्ज किया गया है क्योंकि एक महिला ने उन पर शादी का वादा करके कथित तौर पर कई बार बलात्कार करने का आरोप लगाया। पुलिस ने मंगलवार को यह जानकारी दी।
दरअसल, एक विमान कंपनी में कार्यरत महिला ने दावा किया कि वह 2018 में जब अर्जुन पुरस्कार विजेता वरूण के संपर्क में आई तो 17 साल की थी। उस समय वरूण यहां भारतीय खेल प्राधिकरण (साइ) केंद्र में ट्रेनिंग कर रहा था।
प्राथमिकी (एफआईआर) में महिला ने आरोप लगाया है कि वरूण ने इंस्टाग्राम के जरिए उससे संपर्क किया और मिलने के लिए जोर दिया। वह मिलने के लिए मैसेज करता रहा लेकिन जब महिला ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी तो उसने महिला के मित्रों को उसे मुलाकात के लिए मनाने को कहा। मुलाकात करने पर वरूण ने कहा कि वह उसे पसंद करता है। वे मित्र बने रहे और धीरे-धीरे उनके बीच रिश्ता बन गया।
जुलाई 2019 में भविष्य के बारे में बात करने का हवाला देकर वह महिला को बेंगलुरू के जयनगर के होटल में ले गया और वह नाबालिग है, यह जानते हुए भी उसके साथ शारीरिक संबंध बनाए। महिला ने जब रोकने का प्रयास किया तो उसने शादी करने का वादा किया।
एफआईआर में कहा गया, ‘‘उसने उस (वरूण) पर शादी के बहाने उसके साथ पांच साल के लंबे रिश्ते के दौरान कई बार शारीरिक संबंध बनाने का आरोप लगाया।’’
बाद में वरूण ने दूरी बनानी शुरू कर दी और महिला के कॉल और मैसेज का जवाब देना बंद कर दिया। उसने धमकी भी दी कि अगर उसने उस पर शादी के लिए दबाव डाला तो वह उसकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर अपलोड कर देगा। एफआईआर के मुताबिक महिला ने वरूण पर धोखा देने का भी आरोप लगाया।
एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, ‘‘महिला की शिकायत के आधार पर हमने सोमवार को हॉकी खिलाड़ी के खिलाफ यौन अपराधों से बच्चों के संरक्षण अधिनियम की उचित धारा और भारतीय दंड संहिता की धारा 376 (बलात्कार) और 420 (धोखाधड़ी और बेईमानी) के तहत मामला दर्ज किया है।’’
हिमाचल प्रदेश के रहने वाले वरूण ने 2017 में भारत के लिए पदार्पण किया था। भारतीय पुरुष हॉकी टीम के 2020 तोक्यो ओलंपिक में कांस्य पदक जीतने के बाद हिमाचल प्रदेश सरकार ने वरूण को एक करोड़ रुपये का पुरस्कार देने की भी घोषणा की थी। वह 2022 बर्मिंघम राष्ट्रमंडल खेलों में रजत पदक जीतने वाली भारतीय टीम का भी हिस्सा थे।