दिल्ली एमसीडी में AAP की ऐतिहासिक जीत, लेकिन वोट शेयर दे रहे कुछ अलग ही संकेत

नई दिल्ली : एमसीडी चुनाव में बीजेपी को आम आदमी पार्टी के बीच कांटे की टक्कर देखने को मिली लेकिन आखिरकार AAP ने कड़े मुकाबले में बाजी मार ली। एमसीडी के सभी 250 वार्ड के नतीजे आ चुके हैं। AAP को 134, BJP को 104, कांग्रेस को 9 और निर्दलीय के खाते में 3 सीटें आईं हैं। चुनाव में क्या मुद्दे चले, इतनी कांटे की टक्कर क्यों देखने को मिली इसे सीटों के रुझान से कहीं ज्यादा वोटशेयर के आंकड़ों से समझ सकते हैं। आम आदमी पार्टी का वोटशेयर पिछले चुनाव के मुकाबले जबरदस्त ढंग से बढ़ा है लेकिन बीजेपी का भी वोटशेयर बढ़ा है। आइए चुनाव नतीजों को वोटशेयर के आईने में समझने की कोशिश करते हैं।

क्या कहते हैं वोटशेयर के आंकड़े
दिल्ली एमसीडी इलेक्शन के नतीजों पर सिर्फ दिल्ली नहीं बल्कि देशभर की निगाहें हैं। तभी तो दिल्ली स्टेट इलेक्शन कमिशन की आधिकारिक साइट और आधिकारिक ऐप जबरदस्त ट्रैफिक को झेल नहीं पाए और बार-बार क्रैश हो रहे थे। वोटशेयर पर नजर डालें तो आम आदमी पार्टी का वोटशेयर 42.05 प्रतिशत है जो पिछली बार के मुकाबले 16 प्रतिशत ज्यादा है। बीजेपी का वोट शेयर 39.09 प्रतिशत रहा जो पिछली बार के मुकाबले 3 प्रतिशत ज्यादा है। वहीं, कांग्रेस की बात करें तो उसका वोटशेयर 11.68 प्रतिशत है जो पिछले चुनाव के मुकाबले करीब 10 प्रतिशत कम है।

कांग्रेस का वोटशेयर और घटा, AAP का बढ़ा
कांग्रेस की न सिर्फ सीटें घटीं बल्कि दिख रही हैं बल्कि उसका वोटशेयर भी जबरदस्त तरीके से लुढ़का है। पिछली बार 31 सीटें जीतने वाली कांग्रेस इस बार दहाई का आंकड़ा भी नहीं छू पाई। 2017 में दिल्ली की तीनों एमसीडी को मिलाकर कांग्रेस का औसतन वोटशेयर 21 प्रतिशत था जो इस बार घटकर 11.68 प्रतिशथ हो गया है। यानी वोट शेयर में करीब 10 प्रतिशत की कमी। इसका सीधा फायदा आम आदमी पार्टी को मिला है। वहीं बीजेपी अपना पिछला वोट बेस न सिर्फ बचाने में कामयाब दिख रही है बल्कि उसमें इजाफा भी दिखा।

कांग्रेस से खिसके वोट AAP की झोली में गिरे
आम आदमी पार्टी को पिछली बार 26 प्रतिशत वोट मिले थे जबकि इस बार उसका वोटशेयर 42 प्रतिशत है। यानी पिछली बार के मुकाबले 16 प्रतिशत ज्यादा। वोटशेयर के आंकड़ों के देखें तो संकेत मिलता है कि कांग्रेस से जो वोट छिटके हैं, उनमें ज्यादातर आम आदमी पार्टी के हिस्से आए हैं। यानी कांग्रेस को वोटशेयर में हुए नुकसान का सीधा फायदा आम आदमी पार्टी को मिला।

बीजेपी हारी जरूर लेकिन सपोर्ट बेस और मजबूत हुआ
पिछली बार तीनों एमसीडी को मिलाकर 181 सीट जीतने वाली बीजेपी इस बार महज 104 सीटों पर सिमट गई। इस तरह एमसीडी में लगातार 15 सालों से चली आ रही उसकी सत्ता का अंत हो गया। वैसे बीजेपी हारी जरूर लेकिन वोटशेयर पर नजर डालेंगे तो अलग पहलू सामने आएगा। पिछली बार के मुकाबले बीजेपी का वोटशेयर 3 प्रतिशत बढ़ा है।

250 वार्डों में कौन आगे-पीछे, अपने इलाके का रिजल्ट यहां देखिए

पिछले चुनाव में किसका कितना वोटशेयर
2017 में एमसीडी तीन हिस्सों में बंटी थी। कुल वॉर्ड 272 थे। इनमें से बीजेपी ने 181, आम आदमी पार्टी ने 49 और कांग्रेस ने 31 सीटों पर जीत हासिल की थी। अगर वोटशेयर की बात करें तो बीजेपी को 36 प्रतिशत, आप को 26 प्रतिशत और कांग्रेस को 21 प्रतिशत वोट मिले थे।