‘बंटवारे के बाद बचा भारत हिंदू राष्ट्र…’ कैलाश विजयवर्गीय बोले- जल्द बनाएंगे हनुमान चालीसा क्लब

इंदौर: बीजेपी के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने मंगलवार को कहा कि ब्रितानी राज से वर्ष 1947 में आजादी के दौरान धार्मिक आधार पर हुए विभाजन के बाद बचा भारत हिंदू राष्ट्र ही है. दरअसल भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित किए जाने की मांग के बारे में पूछे जाने पर जवाब देते हुए विजयवर्गीय ने कहा कि जब भारत का विभाजन हुआ, तो धार्मिक आधार पर हुआ था. विभाजन के बाद पाकिस्तान बना और बचा हुआ देश है वो हिंदू राष्ट्र ही है. उन्होंने यह दावा भी किया कि भोपाल में रहने वाले उनके एक मुस्लिम मित्र रोज हनुमान चालीसा पढ़ते हैं और शिव मंदिर भी जाते हैं.

विजयवर्गीय ने हालांकि इस व्यक्ति की निजता का हवाला देते हुए उसकी पहचान उजागर करने से इनकार कर दिया. भाजपा महासचिव ने आगे कहा, मैंने अपने मुस्लिम मित्र से पूछा कि हनुमान और शिव की भक्ति करने की उन्हें कैसे प्रेरणा मिली, तो उन्होंने जवाब दिया कि जब उन्होंने उनके परिवार का इतिहास देखा तो उन्हें पता चला कि उनके पुरखे राजस्थान के राजपूत थे और उनके कुछ रिश्तेदार अब भी राजपूत ही हैं जो राजस्थान और उत्तरप्रदेश में रहते हैं. विजयवर्गीय ने दावा किया कि उनके मुस्लिम मित्र की तरह देश में ऐसे बहुत सारे लोग हैं जो कहीं न कहीं इस बात को महसूस कर रहे हैं कि उनके पूर्वज कभी हनुमान चालीसा पढ़ते थे.
युवाओं के लिए बनाया जाएगा हनुमान चालीसा क्लब
विजयवर्गीय ने कहा कि आज देश का युवा नशे की लत में पढ़ता जा रहा है. नौजवानों को नशे की आदत से दूर रखने के लिए जल्द ही हनुमान चालीसा क्लब बनाने की प्लानिंग पर विचार किया जाएगा. वहीं पंजाब में अलगाववादियों की हालिया गतिविधियों पर कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि इस परेशानी से निपटने के लिए केंद्र और प्रदेश सरकार गंभीरता से काम कर रही है, बहुत जल्द ही अच्छे रिजल्ट सबके सामने आएंगे.

ये भी पढ़े- Bhopal में खुला देश का पहला हेयर ड्रेडलॉक स्टूडियो, यहां संवारी जाती हैं संतों की जटाएं

बता दें कि आगामी 25 मार्च को कैलाश विजयवर्गीय पितरेश्वर हनुमान मंदिर पर ढाई लाख हनुमान चालीसा के पाठ का आयोजन कराने जा रहे हैं. जिसमें 51 हजार लोग हनुमान चालीसा का पाठ करेंगे. इसमें देश के हर कोने से संत शामिल होने पहुंचेंगे.

ये भी पढ़े- हनुमान चालीसा को लेकर अब MP में राजनीति शुरू! सुनसान पड़े मंदिरों में पाठ करा रहे RSS के लोग