यहां चाइनीज करते हैं काली माता की पूजा, प्रसाद में चढ़ाते हैं नूडल्स

नवरात्रि के मौके पर हम आपको एक ऐसे मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं, जो चाइनीज काली मंदिर के नाम से मशहूर है. नूडल्स वाले प्रसाद के अलावा इससे कई रोचक बातें जुड़ी हुई हैं. यहां मां काली के दर्शन करना चाहते हैं, तो जानें आपको भारत के किस शहर की सैर पर जाना पड़ेगा.

कोलकाता के चाइनीज काली मंदिर की देखरेख यहां मौजूद चीनी समुदाय करता है. कोलकाता के टेंगरा में मौजूद चाइनीज काली बाड़ी को चाइनाटाउन ऑफ इंडिया के रूप में जाना जाता है.

कहा जाता है कि यहां मां दुर्गा के रूप काली की पूजा के लिए चीनी समुदाय जमा हुआ और एक समय पर सभी ने पेड़ के नीचे पूजा शुरू की और आज ये एक चर्चित मंदिर के रूप में जाना जाता है. इस मंदिर में नूडल्स को प्रसाद के रूप में भक्तों को दिया जाता है और ये वजह इसे बाकी मंदिरों से काफी अलग बनाती है.

वैसे टेंगरा में बौद्ध और ईसाई रीति-रिवाजों का ज्यादा पालन किया जाता है, लेकिन नवरात्रि के दौरान यहां काली पूजा की अलग ही रौनक रहती है. कहते हैं कि इस मंदिर को साल 1998 में तैयार किया गया था.

कहा जाता है कि काफी समय पहले एक चीनी दंपत्ति का बेटा बहुत बीमार था. दंपत्ति मां काली की शरण में आया और उनका बच्चा कुछ समय बाद ठीक हो गया. ऐसा माना जाता है कि तब से यहां मौजूद चीनी समुदाय में मां काली के प्रति विश्वास और बढ़ गया और वे उनकी पूजा करने लगे.