‘Biparjoy’ के कारण राजस्थान के अनेक इलाकों में भारी बारिश, तीन जिलों में बाढ़ जैसे हालात

जयपुर। राजस्थान के जालोर, सिरोही और बाड़मेर जिलों में चक्रवाती तूफान ‘बिपारजॉय’ की वजह से हुई भारी बारिश के कारण लोगों को बाढ़ जैसी स्थिति का सामना करना पड़ रहा है। एसडीआरएफ टीम ने 59 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया है।
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ‘बिपारजॉय’ तूफान के कारण बनी परिस्थितियों को लेकर जालौर, सिरोही, बाड़मेर एवं पाली के जिलाधिकारियों से बात की। स्थिति नियंत्रण में हैं एवं लगातार निगरानी की जा रही है।
राज्य आपदा राहत बल (एसडीआरएफ) के कमांडेंट राजकुमार गुप्ता ने बताया कि ‘बिपारजॉय’ तूफान के मद्देनजर जालोर जिले के भीनमाल कस्बे की बाढ़ग्रस्त ओड बस्ती में फंसे कुल 39 लोगों को एसडीआरएफ टीम ने वहां से निकाल कर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया है। उन्होंने बताया कि बाड़मेर जिले के धौरीमन्ना कस्बे के निचले इलाकों में पानी भरने से घरों में फंसे 20 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है।
पुलिस ने बताया कि बाड़मेर और राजसमंद जिलों में बारिश जनित दो अलग अलग हादसों में एक महिला सहित चार लोगों की मौत हो गई।
बाड़मेर के सेवडा थानाधिकारी हंसाराम ने बताया कि रविवार सुबह गंगासरा गांव के तालाब में नहाने गये दो चचेरे भाईयों की डूबने से मौत हो गई।
उन्होंने बताया कि मृतकों की पहचान कृपालिसंह और खेत सिंह के रूप में की गई है। दोनों नौ से 11 वर्ष की आयुवर्ग के हैं। पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिये गये हैं।
राजसमंद पुलिस नियंत्रण कक्ष ने बताया कि बाघोटा गांव में चट्टान के खिसने से प्रेमसिंह राजपूत (45) की मौत हो गई और केलवा थाना क्षेत्र के केलवा गांव में मकान का छज्जा गिरने से लाली बाई (48) की मौत हो गई।
राजस्थान के आपदा और राहत सचिव पीसी किशन ने कहा, “भारी वर्षा के कारण जालोर, सिरोही और बाड़मेर जिलों में बाढ़ जैसी स्थिति है। अगले 15-20 घंटों में भारी बारिश होने का अलर्ट भी है। अभी तक किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है। हमारी कई टीम अलर्ट पर हैं।”
उन्होंने कहा कि पिंडवाड़ा, आबू रोड और रेवड़ में कई बड़े बांधों में पानी बहुत ज्यादा भर गया है।
आपदा राहत एवं प्रबंधन विभाग के मुताबिक, पिछले 24 घंटों में कई इलाकों में भारी बारिश दर्ज की गई।
मौसम विभाग के अनुसार, रविवार को सुबह से शाम तक पाली के ऐरन पुरा रोड में 226 मिलीमीटर (मिमी), सिरोही में 155 मिमी, जालोर में 123 मिमी और जोधपुर शहर में 91 मिमी बारिश दर्ज की गई।
विभाग के अनुसार, रविवार सुबह 8.30 बजे तक जालोर के चितलवाना में 336 मिमी, जसवंतपुरा में 291 मिमी, रानीवाड़ा में 317 मिमी, शिवगंज में 315 मिमी, सुमेरपुर में 270 मिमी, चोहटन में 266 मिमी, धोरीमन्ना में 256 मिमी, रानी में 249 मिमी, रेवधर में 243 मिमी, बाली में 240 मिमी बारिश दर्ज की गई है।
अन्य अनेक स्थानों पर 203 मिमी से लेकर 67 मिमी तक बारिश दर्ज की गई।
जयपुर मौसम केन्द्र के प्रभारी राधेश्याम शर्मा ने बताया कि पिछले 24 घंटों के दौरान राज्य के चार जिलों में भारी बारिश (200 मिलीमीटर से ज्यादा बारिश) अब तक रिकॉर्ड हुई है। इनमें जालोर, सिरोही, बाड़मेर और पाली जिले शामिल हैं।
इसके साथ ही राज्य के अन्य कई हिस्सों में भारी से बहुत भारी बारिश अब तक दर्ज की गई है। फिलहाल भारी बारिश का दौर पाली , राजसमंद, अजमेर, उदयपुर जिलों और आसपास के क्षेत्रों में जारी है।इसे भी पढ़ें: Ballia District Hospital में चार दिन में 57 रोगियों की मौत, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक हटाए गए
उन्होंने बताया कि आगामी 24 घंटों में अजमेर और उदयपुर संभाग के जिलों में कहीं-कहीं भारी से बहुत भारी बारिश होने की संभावना बनी हुई है।
शर्मा ने बताया कि आगामी 24 घंटों के दौरान पाली, सिरोही ,राजसमंद और उदयपुर में विभाग ने रेड अलर्ट जारी किया है। उन्होंने कहा कि अजमेर, भीलवाड़ा, चित्तौड़गढ़, डूंगरपुर, टोंक , बूंदी, जयपुर, नागौर, और जालोर में कहीं-कहीं भारी और बहुत भारी बारिश का दौर जारी रहेगा।
उन्होंने बताया कि राज्य के उत्तर पश्चिमी इलाकों– हनुमानगढ, गंगानगर, चूरू और बीकानेर में हल्की से मध्यम दर्जे की बारिश होने की संभावना है।