हलाल पर रोक, शादी की उम्र तय? UCC के बाद उत्‍तराखंड में क्‍या बदल जाएगा, 10 पॉइंट में समझें

उत्तराखंड कैबिनेट लंबे इंतजार के बाद अगले हफ्ते राज्य विधानसभा में समान नागरिक संहिता (यूसीसी) विधेयक पारित करने के लिए तैयार है। शुक्रवार को, सरकार द्वारा नियुक्त एक पैनल ने उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को एक बड़ा दस्तावेज़ सौंपा, जिन्होंने कहा कि “लंबे समय से प्रतीक्षित क्षण आ गया है”। धामी ने कहा कि छह फरवरी को विधानसभा में पेश करने से पहले यूसीसी मसौदे की जांच, अध्ययन और चर्चा की जाएगी। यूसीसी पर कानून पारित करने के लिए विधानसभा का चार दिवसीय विशेष सत्र पहले ही 5-8 फरवरी तक बुलाया जा चुका है। इसे भी पढ़ें: Uttarakhand ने UCC को लागू करने की दिशा में बढ़ाया कदम, जानिये UCC Draft Report में क्या-क्या लिखा हैपुष्कर सिंह धामी ने कहा कि मुझे ड्राफ्ट मिल गया है, इसका परीक्षण किया जाएगा और फिर इसे लागू किया जाएगा।’ हमने राज्य चुनाव के दौरान उत्तराखंड की जनता से वादा किया था और उन्होंने हमारी सरकार बनाई। इसलिए हम वह वादा निभा रहे हैं। हमें उम्मीद है कि अन्य राज्य भी इसे लागू करेंगे। उन्होंने कहा कि इस पर 2,33,000 लोगों ने सुझाव दिये। मसौदा रिपोर्ट लगभग 740 पेज लंबी है और 4 खंडों में है। हम रिपोर्ट की जांच करेंगे और फिर आगे बढ़ेंगे। सीएम धामी ने समान नागरिक संहिता विधेयक पर “आ रहा है यूसीसी” शीर्षक से एक संगीत वीडियो भी जारी किया। शीर्षक गीत को भूपेन्द्र बसेड़ा ने लिखा और गाया है और इसकी धुन राकेश भट्ट ने बनाई है। इसे भी पढ़ें: Uttarakhand UCC | उत्तराखंड में समान नागरिक संहिता पर काम पूरा, पुष्कर सिंह धामी को सौंपे गये दस्तावेज | Uniform Civil Code 10 पॉइंट में समझें बड़ी बातें- यूसीसी बिल हलाला, इद्दत और तीन तलाक को दंडनीय अपराध बनाएगा।- उत्तराखंड में समान नागरिक संहिता विधेयक बहुविवाह पर भी प्रतिबंध लगा सकता है।- इस विधेयक से सभी धर्मों में पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए विवाह की आयु तय करने की उम्मीद है।- राज्य की आबादी का 2.9% हिस्सा बनाने वाले आदिवासी समुदायों को उत्तराखंड में यूसीसी विधेयक के दायरे से छूट दी जा सकती है।- इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट में सूत्रों का हवाला देते हुए यह भी कहा गया है कि प्रस्तावित बिल में बच्चों की संख्या में एकरूपता समेत जनसंख्या नियंत्रण के उपाय हैं।- इसके अलावा उत्तराखंड के यूसीसी विधेयक में ऐसे प्रावधान हो सकते हैं जो विरासत से संबंधित मुद्दों में पुरुषों और महिलाओं के साथ समान व्यवहार करेंगे।- आईई रिपोर्ट में उल्लेख किया गया है कि यूसीसी लिव-इन रिश्तों को भी विनियमित करने की संभावना है।- यूसीसी राज्य में सभी नागरिकों के लिए एक समान विवाह, तलाक, भूमि और संपत्ति के लिए एक कानूनी ढांचा प्रदान करेगा, चाहे उनका धर्म कुछ भी हो।- यूसीसी पैनल को 2.33 लाख लिखित सुझाव प्राप्त हुए और 60 से अधिक बैठकें हुईं जिनमें सदस्यों ने लगभग 60,000 लोगों के साथ बातचीत की।- इसके लागू होने पर उत्तराखंड आजादी के बाद यूसीसी अपनाने वाला देश का पहला राज्य बन जाएगा। यह पुर्तगाली शासन के दिनों से ही गोवा में चालू है।