रामलला के दर्शन को हो जाएं तैयार! अयोध्या के लिए शुरू होंगी आस्था स्पेशल ट्रेनें, यहां जानिए सब कुछ

भारतीय रेलवे राम मंदिर के उद्घाटन के बाद तीर्थयात्रियों को अयोध्या लाने के लिए देश भर में 66 स्थानों से “आस्था स्पेशल” के रूप में विशेष ट्रेनें शुरू करेगा। इन ट्रेनों का संचालन 22 जनवरी को अभिषेक समारोह के साथ शुरू होगा। सूत्रों ने कहा कि 22 कोचों वाली 66 रेक (ट्रेनें) को देश के विभिन्न हिस्सों से सेवा में लगाया जाएगा और बाद में मांग के आधार पर और रेक जोड़ी जाएंगी। रेलवे की ओर से जारी एक सर्कुलर में कहा गया है कि इन ट्रेनों में टिकट राउंड ट्रिप के लिए बुक किए जाएंगे। खबर यह भी है कि रेलवे ने 1000 नॉन एसी ट्रेनों का संचालित करने का निर्णय लिया है। सबसे पहले 500 ट्रेने चलाई जाएंगी। इसके बाद इसे बढ़ाकर 1000 किया जाएगा।  इसे भी पढ़ें: भगवान राम की तस्वीर के साथ RBI ने जारी किया 500 रुपये का नया नोट, सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा मैसेजरेलवे ने सुरक्षा कारणों से अपने यात्री आरक्षण प्रणाली (पीआरएस) में ट्रेन का विवरण नहीं भरने का फैसला किया है, हालांकि बुकिंग आईआरसीटीसी द्वारा की जाएगी। ये ट्रेनें दिल्ली के चार स्टेशनों – नई दिल्ली, पुरानी दिल्ली, निज़ामुद्दीन और आनंद विहार से शुरू की जाएंगी। अन्य शहरों में अगरतला, तिनसुकिया, बाड़मेर, कटरा, जम्मू, नासिक, देहरादून, भद्रक, खुर्दा रोड, कोटायम, सिकंदराबाद, हैदराबाद और काजीपेट शामिल हैं। तमिलनाडु में चेन्नई, सेलम और मदुरै सहित नौ स्टेशन होंगे, जहां से अयोध्या यात्रा के लिए आस्था स्पेशल उपलब्ध होंगी। महाराष्ट्र में इन्हें नागपुर, पुणे, मुंबई, वर्धा, जालना और नासिक सहित सात स्टेशनों से संचालित किया जाएगा। इसे भी पढ़ें: Untold Stories of Ayodhya: मैंने मां और भैंस दोनों का दूध पिया है…सोचते रह गए मुलायम और लालू ने रोक दिया आडवाणी का रथ, गिर गई वीपी सिंह की सरकारविशेष रूप से, इन ट्रेनों के टिकट केवल भारतीय रेलवे खानपान और पर्यटन निगम (आईआरसीटीसी) के माध्यम से बुक किए जा सकते हैं। इन ट्रेनों को भारतीय रेलवे के यात्री आरक्षण प्रणाली के माध्यम से बुक नहीं किया जा सकता है। इसमें आरक्षण, सुपरफास्ट, खानपान, सेवा और वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) से जुड़े शुल्क होंगे। आईआरसीटीसी यात्रा के दौरान खानपान के लिए शाकाहारी भोजन उपलब्ध कराएगा। प्रत्येक राज्य से योजनाबद्ध तुलनीय मार्गों के अंत में ट्रेनें अयोध्या पहुंचेंगी। इसके अलावा, पांच मार्ग हैं जो पूर्वोत्तर से अयोध्या की ओर जाते हैं, जिनमें से अधिकांश ट्रेनें असम या गुवाहाटी से आती हैं।