गुजरात में शुरू हुई जेनस्ट्रिंग्स सैटेलाइट लैब, डॉक्टर बोले- महामारी से ली 3 सीख

जेनेटिक डायग्नोस्टिक्स और स्पेशलाइज्ड पैथोलॉजी में अग्रणी जेनस्ट्रिंग्स ने सोमवार 17 अक्टूबर 2022 को वडोदरा, गुजरात में नया लैब शुरू किया. बताया गया कि ‘इस लैब का मुख्य उद्देश्य इस क्षेत्र में विश्वसनीय नैदानिक समाधान को आसान बनाना है. यह पैथोलॉजी लैब कम समय में भरोसेमंद टेस्ट रिजल्ट देगी जिससे आम जनता को फायदा होगा. यह प्रयोगशालाएं चिकित्सा के विश्व स्तरीय और अंतरराष्ट्रीय मानकों का पालन करते हुए विकसित की गई हैं.’
मुख्य अतिथि आदिवासी समाज उद्धारक जैन संत डॉ गणि राजेन्द्र विजय ने यशोदा ग्रुप ऑफ हॉस्पिटल्स के ग्रुप डायरेक्टर डॉ रजत अरोड़ा और Genestrings के सह-संस्थापक , दिल्ली-एनसीआर के साथ इस लैब का उद्घाटन किया.
हमने महामारी से 3 बातें सीखी: डॉ रजत अरोड़ा
उद्घाटन के मौके पर डॉ रजत अरोड़ा ने कहा कि ‘हमने महामारी से जो सीखा वो ये था कि समय पर रिपोर्टिंग के साथ गुणवत्ता और उत्तम निदान स्वास्थ्य सेवा प्रणाली को मजबूत करने की कुंजी है. इसलिए, हम सभी के लिए सस्ती कीमतों पर विशेष पैथोलॉजी और उच्च आनुवंशिक परीक्षण उपलब्ध कराने का इरादा है.’
उन्होंने बताया, ‘यह हमारी बड़ी विस्तार रणनीतियों में से एक नियोजित चरण है. हम जल्द ही विभिन्न राज्यों में हब एंड स्पोक मॉडल में और अधिक लैब लॉन्च करेंगे. कुल मिलाकर 2022 नए डायग्नोस्टिक रिसर्च एंड डेवलपमेंट इन-होम डायग्नोसिस के साथ इनोवेशन का साल होगा. इनसे नियमित रोगविज्ञान, उन्नत आनुवंशिकी और निवारक स्वास्थ्य देखभाल के लिए समग्र समाधान लोगों तक पहुंचाया जा सकेगा.’
डॉ अरोड़ा ने कहा, ‘IOT का उपयोग करके मॉलिक्यूलर टेस्टिंग और डिजिटल केयर को लागू करने से लोगों को सस्ती और आसान सुविधाएं मिल सकेंगी. वडोदरा के मदर प्लाजा कॉम्प्लेक्स, अजवा-पानी गेट रोड में ये पैथोलॉजी लैब बनाई गई है, जो आसपास के इलाकों के लोगों के लिए सुलभ और सुविधाजनक रहेगी.’
महामारी के दौरान जेनेस्ट्रिंग देश की पहली प्रयोगशाला थी, जिसने अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर एक RTPCR टेस्टिंग लैब स्थापित की. जब बड़े विकसित देशों को भी कोविड टेस्टिंग रिजल्ट में 24 से 48 घंटे लग रहे थे, ये लैब 4 घंटे में RTPCR रिजल्ट दे रही थी. जेनस्ट्रिंग्स तब सबसे बड़ी COVID-19 परीक्षण सुविधाओं में से एक बन गई, जो रोजाना 20,000 से ज्यादा टेस्टिंग करती थी.