दिल्ली: MCD के डंपिंग ग्राउंड पर पर गौतम गंभीर का कब्जा, AAP ने LG से की जांच की मांग

भारतीय जनता पार्टी से सांसद गौतम गंभीर के खिलाफ उन्ही की पार्टी के विधायक अनिल बाजपेयी के बाद अब आम आदमी पार्टी ने भी मोर्चा खोल दिया है. आम आदमी पार्टी के विधायक और एमसीडी प्रभारी दुर्गेश पाठक ने शनिवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि सरकारी जमीनों पर कब्जा करना अपराध है. पूर्वी दिल्ली में यह अपराध बीजेपी के सांसद गौतम गंभीर ने किया है. इसे लेकर गांधी नगर से बीजेपी विधायक अनिल वाजपेयी ने शिकायत की है. दुर्गेश पाठक ने कहा कि एमसीडी के ढलाव घरों (डंपिंग ग्राउंड) को गौतम गंभीर और उनके एनजीओ को दिया जा रहा है.
आम आदमी पार्टी के विधायक और एमसीडी प्रभारी दुर्गेश पाठक ने कहा कि हमारी एलजी विनय सक्सेना से मांग है कि इसकी जांच हो और जो लोग भी इसमें शामिल हैं, उनपर कार्रवाई हो. उन्होंने कहा कि चर्चा यह भी है कि एमसीडी की इन जमीनों पर बनाए गए अवैध निर्माण का उद्घाटन केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह करने वाले हैं.
बीजेपी विधायक ने की सीबीआई जांच की मांग
दरअसल पूर्वी दिल्ली के गांधीनगर से बीजेपी विधायक अनिल बाजपेयी ने एलजी वीके सक्सेना को पत्र लिखकर गैर सरकारी संगठनों को डंपिंग ग्राउंड के अवैध आवंटन का आरोप लगाते हुए सीबीआई जांच की मांग की है. उन्होंने लिखा कि पूर्वी दिल्ली के कुछ विधानसभा क्षेत्रों में, डंपिंग ग्राउंड को आवंटित स्थान को रसोई, पुस्तकालय और अन्य कार्यों में बदल दिया गया है और जिसके मालिकाना हक निजी संगठनों के पास है. हालांकि पत्र में गौतम गंभीर का नाम नहीं लिया गया है, लेकिन संकेत स्पष्ट हैं क्योंकि क्रिकेटर से राजनेता बने, अपने एनजीओ के माध्यम से, चार जन रसोई (सामुदायिक रसोई) चलाते हैं, जहां हर दिन लगभग 3,000 लोगों को 1 रुपये में भोजन परोसा जाता है.
गौतम गंभीर ने नहीं ली अनुमति
एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार गौतम गंभीर ने हाल ही में एक इवेंट में अपनी जन रसोई और पुस्तकालय की पहल के बारे में बात की थी. गौतम गंभीर ने साफ-साफ कहा था कि ईमानदारी से कहूं तो हमने किसी से एक भी अनुमति नहीं ली है. अगर दिल्ली की मौजूदा सरकार इसे गिराना चाहती है, तो उन्हें ऐसा करने का अधिकार है. अगर हमें अनुमति लेनी होती तो हम बस उलझ जाते और हजारों लोगों का पेट नहीं भर पाते और न ही पुस्तकालय स्थापित कर पाते.
राजनीति कर रही बीजेपी
वहीं गुजरात में लगे काले होर्डिंग्स पर दुर्गेश पाठक ने कहा कि इस मुद्दे पर शुक्रवार को समाज कल्याण मंत्री राजेंद्र पाल गौतम ने स्पष्टीकरण दे दिया था. उन्होंने कहा कि बीजेपी इसपर राजनीति कर रही है. बता दें गुजरात में सीएम केजरीवाल की रैली के पहले काले होर्डिंग लगा दिए गए थे. इन होर्डिंग्स पर लिखा था, ‘मैं हिंदू धर्म को पागलपन मानता हूं. साथ ही लिखा था कि ‘मैं ब्रह्म, विष्णु, महेश और राम और कृष्ण को ईश्वर नहीं मानता हूं’. वहीं इसमें सीएम केजरीवाल को मुस्लिम टोपी में दिखाया गया है.
RSS प्रमुख एक ही जाति के लोग क्यों?
वहीं आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के बयान, देश से जाति और वर्ण व्यवस्था खत्म होनी चाहिए, पर उन्होंने कहा कि इस देश में जाति के आधार पर राजनीति करने का काम बीजेपी कर रही है. सवाल यह है कि आरएसएस के प्रमुख एक ही जाति के लोग क्यों बनते हैं. पहले उनको इस बात का जवाब देना चाहिए.