Odisha के पूर्व CM Giridhar Gamang की घर वापसी, पत्नी और बेटे के साथ थामा कांग्रेस का हाथ

ओडिशा के पूर्व मुख्यमंत्री गिरिधर गमांग भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और फिर भारत राष्ट्र समिति (बीआरएस) में शामिल होने के बाद बुधवार को फिर से कांग्रेस पार्टी में शामिल हो गए। नौ बार के लोकसभा सांसद अपनी पत्नी हेमा और बेटे शिशिर के साथ सबसे पुरानी पार्टी में शामिल हुए। गमांग ने भगवा पार्टी से हाथ मिलाने के लिए 2015 में कांग्रेस छोड़ दी थी। गमांग, जो कोरापुट क्षेत्र के एक प्रमुख आदिवासी नेता हैं, ने ओडिशा के मुख्यमंत्री और साथ ही प्रदेश कांग्रेस कमेटी (पीसीसी) के अध्यक्ष के रूप में कार्य किया। इसे भी पढ़ें: Ram Mandir से पहले होगा Jagannath Temple Project का उद्घाटन, 800 करोड़ के प्रोजेक्ट के बारे में जानेंएक्स पर एक पोस्ट में कांग्रेस ने लिखा कि आज कांग्रेस कोषाध्यक्ष अजय माकन जी और उड़ीसा कांग्रेस प्रभारी डॉ अजॉय कुमार जी की उपस्थिति में उड़ीसा के पूर्व मुख्यमंत्री गिरिधर गमांग जी कांग्रेस पार्टी में शामिल हुए। गिरिधर जी के साथ श्रीमती हेमा गमांग जी, संजय भोई जी और शिशिर गमांग जी भी कांग्रेस पार्टी का हिस्सा बने। आप सभी को बधाई एवं भविष्य के लिए शुभकामनाएँ। गिरिधर गमांग ने कहा कि वापस आने के बाद पार्टी ने मुझे अपनाया… पार्टी ने मुझे हर समय स्वीकार किया है। मैं सिद्धांत के लिए काम करता हूं… मुझे ओडिशा में जहां भी दायित्व दिया जाएगा मैं वहां काम करूंगा। उन्होंने कहा कि देश में कांग्रेस ही ऐसी पार्टी है, जो सिद्धांतवादी राजनीति करती है।  कांग्रेस ने मुझे 11 बार टिकट दिया, जो कोई पार्टी नहीं कर सकती है। मैं दूसरे दल में रहा, लेकिन सम्मान केवल कांग्रेस ही दे सकती है। राहुल गांधी जी ने जो कदम उठाया है, वह राजनीतिक नहीं बल्कि संवैधानिक है। हम सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक न्याय की लड़ाई लड़ते रहेंगे। गिरिधर गमांग ने पिछले साल भाजपा से नाता तोड़ लिया और के.चंद्रशेखर राव के नेतृत्व वाली बीआरएस में शामिल हो गए। गमांग और उनके बेटे शिशिर के कांग्रेस में वापस आने की अटकलों के बीच बुधवार का घटनाक्रम सामने आया। गमांग 1972 से 2004 के बीच कोरापुट से नौ बार लोकसभा सांसद रहे। इसे भी पढ़ें: ओडिशा जाने वाली उड़ान रास्ते में तकनीकी गड़बड़ी आने पर कोलकाता हवाई अड्डा लौटीपार्टी के एक नेता ने कहा कि हालांकि गमांग ने पार्टी छोड़ दी और भाजपा में शामिल हो गए, लेकिन उन्होंने सोनिया गांधी और कांग्रेस आलाकमान के खिलाफ एक भी शब्द नहीं बोला। पिछले साल अगस्त में, गमांग ने अपने बेटे सिसिर के साथ ओपीसीसी अध्यक्ष शरत पट्टनायक और कोरापुट के सांसद सप्तगिरी उलाका की उपस्थिति में ओडिशा के तत्कालीन अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) प्रभारी ए चेल्लाकुमार से मुलाकात की थी। बैठक के बाद, गमांग के बेटे सिसिर ने संवाददाताओं से कहा कि वे पहले ही कांग्रेस में शामिल होने की अपनी इच्छा बता चुके हैं।