एफआईएच नेशंस कप : आत्मविश्वास से ओतप्रोत भारत की नजरें जीत की हैट्रिक पर

सेमीफाइनल में जगह बना चुकी भारतीय टीम एफआईएच हॉकी महिला नेशंस कप में बुधवार को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ उतरेगी तो उसका लक्ष्य जीत की हैट्रिक लगाने का होगा।
दुनिया की आठवें नंबर की टीम भारत पूल बी में दोनों मैच जीत चुकी है। चिली को 3 . 1 से हराने के बाद उसने जापान को 2 . 1 से मात दी। अब उसका सामना 20वीं रैंकिंग वाली दक्षिण अफ्रीका टीम से है। दक्षिण अफ्रीका को हराने से उन्हें सेमीफाइनल में मेजबान स्पेन (सातवीं रैंकिंग) से खेलना है।
भारत के अलावा स्पेन ने पूल ए से सेमीफाइनल में जगह बना ली है।
आयरलैंड, इटली और कोरिया पूल ए से सेमीफाइनल में दूसरा स्थान हासिल करने की होड़ में है। वहीं पूल बी से दूसरे स्थान के लिये चिली और जापान में मुकाबला है।
आठ टीमों का टूर्नामेंट भारत के लिये काफी महत्वपूर्ण है क्योंकि इसमें प्रमोशन और रेलिगेशन लागू होने वाला है।चैम्पियन को 2023 . 24 एफआईएच हॉकी महिला प्रो लीग में जगह मिलेगी जो अगले साल एशियाई खेलों और 2024 पेरिस ओलंपिक से पहले अहम टूर्नामेंट है।
भारतीय टीम इस साल की शुरूआत में पहली बार प्रो लीग खेलते हुए तीसरे स्थान पर रही थी।
भारत के लिये अब तक पांच अलग अलग खिलाड़ियों संगीता कुमारी, सोनिका, नवनीत कौर, सलीमा टेटे और ब्यूटी डुंगडुंग ने गोल दागे। दोनों मैचों में मिडफील्ड और फॉरवर्ड पंक्ति ने अच्छा प्रदर्शन किया।
सलीमा, मोनिका, नेहा गोयल, सोनिका और नवजोत कौर ने मिडफील्ड को बांधे रखा। फॉरवर्ड पंक्ति में वंदना कटारिया, लालरेम्सियामी, नवनीत कौर, संगीता और ब्यूटी ने अपेक्षा के अनुरूप खेल दिखाया है।गोल के आगे कप्तान सविता पूनिया चट्टान की तरह अडिग रही है।
पेनल्टी कॉर्नर हालांकि भारत के लिये चिंता का सबब रहा है। जापान के खिलाफ भारत को नौ पेनल्टी कॉर्नर मिले लेकिन ड्रैग फ्लिकर गुरजीत कौर एक भी गोल नहीं कर सकी।