Explained: कई पॉलिसीज हैं तो राहत की बात, जानिए कैसे काम करेगा बीमा सेंट्रल का सिस्टम

मुंबई: वह जमाना बीत गया जबकि चुनिंदा भारतीयों के पास एलआईसी (LIC) की एक पॉलिसी होती थी। अब तो एक ही व्यक्ति के पास कई-कई इंश्योरेंस या बीमा पॉलिसीज (Insurance Policy) होती हैं। उनके पास एक-दो लाइफ इंश्योरेंस (Life Insurance) की तो पॉलिसी होती ही है, एक पॉलिसी हेल्थ इंश्योरेंस (Health Insurance) की होती है। यदि घर में कोई मोटर-वाहन हों तो एक मोटर इंश्योरेंस पॉलिसी (Motor Insurance) भी होगी ही। इन सब पॉलिसीज के कागजात संभाल कर रखना कोई हंसी-खेल नहीं है। सबको संभाल कर एक ऐसे जगह रखना पड़ता है, जिसे जब चाहे निकाल कर उसका उपयोग किया जा सके। अब इन कागजातों को संभालना आसान हो जाएगा। इसके लिए () लॉन्च हो चुका है।क्या है बीमा सेंट्रलभारत में म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री (Mutual Fund Industry) का सर्विस पार्टनर और सबसे बड़ा प्लेटफार्म है या CAMS. यह पूंजी बाजार के नियामक SEBI के तहत पंजीकृत म्यूचुअल फंड कंपनियों और निवेशकों की रजिस्ट्रार और ट्रांसफर (R&T) एजेंसी है। कसी कंपनी की पूर्ण स्वामित्व वाली एक सहायक कंपनी है (CAMS Insurance Repository Services)। इसी बीमा रिपोजिटरी ने बीमा पोर्टफोलियो मैनेजमेंट को सरल बनाने के लिए एक क्रांतिकारी वन-स्टॉप प्लेटफॉर्म बीमा सेंट्रल (Bima Central) लॉन्च किया है।क्या होगा फायदाइस समय विभिन्न स्रोतों से पॉलिसी खरीदने वाले अधिकांश पॉलिसीधारकों को इन पॉलिसियों का प्रबंधन करना एक चुनौती लगता है। बीमा सेंट्रल अब पॉलिसी लाभों को सरल और एकत्रित करके उन्हें सशक्त बनाएगा। साथ ही इसमें क्लेम-रेडीनेस का लाभ मिलेगा और पॉलिसी सर्विसिंग तक आसान पहुंच सुनिश्चित हो सकेगी। बीमा सेंट्रल यूजर्स को उनके सुरक्षित ई-बीमा खाते (ईआईए) के माध्यम से जीवन, स्वास्थ्य और मोटर पॉलिसियों का प्रबंधन करने की अनुमति देता है। किन्हें मिलेगा लाभकोई भी पॉलिसीधारक जिसने CAMSRep के साथ अपना ई इंश्योरेंस अकाउंट () खोला है, उसे विभिन्न बीमाकर्ताओं के साथ अपनी पॉलिसियों के प्रबंधन के लिए बीमा सेंट्रल तक पहुंच मिलेगी। इसमें सरलीकृत पॉलिसी जानकारी, रिन्यूअल और रिमाइंडर, व्यक्तिगत डेटा और नॉमिनी की जानकारी का प्रोफ़ाइल मैनेजमेंट, पॉलिसी कैलेंडर और बहुत कुछ जैसी सुविधाएं होंगी। जो लोग अपना नया ई-बीमा खाता (eIA) खोलना चाहते हैं, वे केवाईसी पूरा करने के बाद तुरंत बीमा सेंट्रल पर ऐसा कर सकेंगे। वर्तमान इंटरफ़ेस एंड्रॉइड, आईओएस के साथ-साथ वेब पोर्टल पर अंग्रेजी और हिंदी में उपलब्ध है।