TRS सांसद के खिलाफ ED की बड़ी कार्रवाई, मनी लॉन्ड्रिंग केस में 80.65 करोड़ की संपत्ति जब्त

प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने सोमवार को तेलंगाना राष्ट्र समिति (TRS) सांसद एन नागेश्वर राव के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की. ईडी ने कथित मनी लॉन्ड्रिंग के एक मामले में राव और उनके परिवार के सदस्यों की 80.65 करोड़ की 28 अचल संपत्ति और अन्य संपत्ति अस्थायी रूप से कुर्क की है.
ईडी ने मीडिया से बातचीत में बताया कि यह मामला धन शोधन रोकथाम अधिनियम, 2002 के प्रावधानों के तहत रांची एक्सप्रेसवे लिमिटेड, मधुकॉन प्रोजेक्ट्स लिमिटेड और इसके निदेशक एवं प्रवर्तकों से संबद्ध है. नागेश्वर राव मधुकॉन समूह की कंपनी के प्रवर्तक एवं निदेशक हैं और उन्होंने उस बैंक ऋण की व्यक्तिगत गारंटी ली थी, जिसे रांची एक्सप्रेसवे लिमिटेड द्वारा नहीं चुकाया गया.

ED has attached 28 immovable properties and other assets worth Rs 80.65 crore belonging to TRS MP Nama Nageshwar Rao and his family members in an ongoing money laundering case against Ranchi Expressway Ltd, Madhucon Projects Ltd and its director and promoters, the agency: ED pic.twitter.com/UJ12Qq20Qq
— ANI (@ANI) October 17, 2022

कुल 80.65 करोड़ की संपत्ति कुर्क
ईडी ने हैदराबाद, खम्मम और प्रकाशम जिलों में 67.08 करोड़ रुपये मूल्य की संपत्ति के अलावा मधुकॉन प्रोजेक्ट्स लिमिटेड, मधुकॉन ग्रेनाइट्स लिमिटेड और मधुकॉन समूह की अन्य कंपनी में नागेश्वर राव और उनके परिवार के सदस्यों की अंशधारिता सहित 13.57 करोड़ रुपये की संपत्ति कुर्क की है. इस तरह, कुल 80.65 करोड़ रुपये मूल्य की संपत्ति कुर्क की गई है.
इससे पहले जुलाई 2022 में ईडी ने मधुकॉन समूह से जुड़ी और टीआरएस सांसद सहित समूह के निदेशकों एवं प्रवर्तकों से संबद्ध 73.74 करोड़ रुपये मूल्य की 105 अचल संपत्ति कुर्क की थी. ईडी ने रांची एक्सप्रेसवे लिमिटेड द्वारा लिए गए बैंक ऋण से 361.29 करोड़ रुपये की हेराफेरी होने का पता लगाया था.
सिंडिकेट बैंक लोन फ्रॉड केस में हिमांशु वर्मा गिरफ्तार
उधर, सिंडिकेट बैंक लोन फ्रॉड केस में प्रवर्तन निदेशालय ने हिमांशु वर्मा को गिरफ्तार कर लिया है. वर्मा पर 1257 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का आरोप है. उसे आज जयपुर की एक विशेष अदालत में पेश किया गया, जहां कोर्ट ने हिमांशु वर्मा को 25 अक्टूबर तक ईडी की हिरासत में भेज दिया. ईडी ने आरोपी की 14.88 करोड़ रुपये की संपत्ति भी अटैच कर ली.

ED arrested one of the key conspirators, Himanshu Verma, in the Rs 1,257 crores Syndicate Bank loan fraudulent case on October 15; a special court in Jaipur remanded him to ED custody till October 25. His various properties worth Rs 14.88 crores have been attached: ED
— ANI (@ANI) October 17, 2022

(भाषा से इनपुट के साथ)