विपक्षी नेताओं पर ED-CBI की तलवार, SC से सभी ने मिलकर लगाई गुहार, 14 राजनीतिक पार्टियों की संयुक्त याचिका को सुनवाई के लिए CJI ने किया लिस्ट

सुप्रीम कोर्ट शुक्रवार को विपक्षी नेताओं को गिरफ्तार करने में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) और केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के मनमाने इस्तेमाल का आरोप लगाते हुए कांग्रेस के नेतृत्व वाले 14 राजनीतिक दलों द्वारा संयुक्त रूप से दायर याचिका पर सुनवाई के लिए सहमत हो गया। भारत के मुख्य न्यायाधीश डी वाई चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाली पीठ ने मामले को 5 अप्रैल को सूचीबद्ध करने पर सहमति व्यक्त की।इसे भी पढ़ें: ‘क्या राहुल गांधी और कांग्रेस का अहंकार देश के कानून से बड़ा है?’, भाजपा का नया हमलावरिष्ठ अधिवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने जांच एजेंसियों ईडी और सीबीआई के मनमाने इस्तेमाल के खिलाफ 14 राजनीतिक दलों द्वारा दायर याचिका का उल्लेख किया। वरिष्ठ अधिवक्ता सिंघवी ने शीर्ष अदालत के समक्ष प्रस्तुत किया कि याचिका में पूर्व-गिरफ्तारी और गिरफ्तारी के बाद और उनके प्रवर्तन के लिए दिशानिर्देश मांगे गए हैं। वरिष्ठ अधिवक्ता सिंघवी ने कहा, “आज ईडी और सीबीआई का इस्तेमाल विपक्षी दलों के नेताओं के खिलाफ किया जा रहा है और 95 प्रतिशत मामले विपक्षी नेताओं के हैं। हम गिरफ्तारी से पहले के दिशा-निर्देशों और गिरफ्तारी के बाद के दिशा-निर्देशों की मांग कर रहे हैं। इसे भी पढ़ें: Rahul Gandhi convicted | कांग्रेस ने राहुल की सजा पर की चर्चा, राष्ट्रपति मुर्मू से मिलने के लिए जन आंदोलन की बनाई योजनावकील ने कहा कि ये राजनीतिक दल कह रहे हैं कि लोकतंत्र खतरे में है. उन्होंने यह भी कहा कि वे मौजूदा जांच को प्रभावित करने की कोशिश नहीं करना चाहते हैं। शीर्ष अदालत का दरवाजा खटखटाने वाले विभिन्न दलों में द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (DMK), राष्ट्रीय जनता दल, भारत राष्ट्र समिति, अखिल भारतीय तृणमूल कांग्रेस, आम आदमी पार्टी, नेशनल कॉन्फ्रेंस, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP), शिवसेना उद्धव खेमा, झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM), जनता दल (यूनाइटेड), भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (CPI), भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) और समाजवादी पार्टी (SP) शामिल हैं।