द्रविड़ के शिष्य हिमांशु ने मचाया कोहराम, ठोक डाले 250 रन, अब टीम इंडिया में मारेगा एंट्री?

नई दिल्ली: महान राहुल द्रविड़ जब क्रिकेट से पूरी तरह रिटायर होंगे तो सिर्फ अपने शानदार करियर के लिए नहीं जाने जाएंगे, बल्कि वह भारत को तमाम प्रतिभाओं को देने के लिए भी जाने जाएंगे। उन्होंने नेशनल क्रिकेट एकेडमी में रहते हुए तमाम क्रिकेटरों को निखारा, जिसमें से कुछ इंटरनेशनल लेवल पर उनकी ही टीम का हिस्सा हैं तो कुछ एंट्री के लिए तैयार बैठे हैं। उनमें से एक हैं , जिन्होंने विजय हजारे ट्रॉफी में दमदार पारियां खेली थी तो अब रणजी ट्रॉफी के एक मुकाबले में नाबाद 250 रनों की पारी खेलते हुए टीम इंडिया के सिलेक्टरों का ध्यान आकर्षित किया है।4 पर गिर गया था हरियाणा का पहला विकेट, फिर हिमांशु ने जड़ा दोहरा शतकहिमांशु राणा ने ADSA Railways Cricket Ground पर खेले जा रहे इस मुकाबले में मणिपुर ने हरियाणा के खिलाफ टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया। उसे 4 रनों पर पहली सफलता मिली तो लगा उसका फैसला सही साबित होगा, लेकिन इसके बाद मैदान पर उतरे हिमांशु राणा ने बल्ले से जो बवाल मचाया कि हर कोई देखते रह गया। राणा ने बेजोड़ बैटिंग करते हुए मणिपुर के गेंदबाजों की जमकर खबर ली। उन्होंने 313 गेंदों में नाबाद 250 रन ठोके। इस दौरान उनके बल्ले से 33 चौके निकले।पहला दोहरा शतक और 2500 रन भी किए पूरेहिमांशु राणा का यह पहला फर्स्ट क्लास दोहरा शतक रहा, जबकि इस दौरान 2500 रन भी पूरे किए। उनके अलावा टीम के लिए निशांत सिंधु ने 119 रनों की पारी खेली, जबकि हरियाणा ने 109 ओवरों में 508 रन बनाते हुए पहली पारी घोषित की। राणा और सिंधु की 255 रन की साझेदारी अब 2024 रणजी ट्रॉफी में दूसरी सबसे बड़ी साझेदारी है। वह चेतेश्वर पुजारा और प्रेरक मांकड़ की सौराष्ट्र जोड़ी से पीछे रह गए, जिन्होंने अपने शुरुआती मैच में झारखंड के खिलाफ 256* रन बनाए थे। इस बीच राणा का 250 रन अब इस सीजन का दूसरा सबसे बड़ा व्यक्तिगत स्कोर है। वह केवल ओडिशा के सुभ्रांशु सेनापति से पीछे हैं, जिन्होंने मध्य प्रदेश के खिलाफ 277 रन बनाए थे। विजय हजारे ट्रॉफी में भी हिमांशु ने बरसाए थे रनइस इससे पहले युवा बल्लेबाज ने 2023 विजय हजारे ट्रॉफी में हरियाणा की जीत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने 10 मैचों में 41.12 के औसत से 329 रन बनाए थे। इसमें दो शतक और एक अर्धशतक शामिल थे। हरियाणा के बल्लेबाजों में केवल अंकित कुमार (453) और राहुल तेवतिया (352) ने ही उनसे अधिक रन बनाए। हिमांशु के नाम लिस्ट ए में कुल मिलाकर 36.07 की औसत से 1,515 रन हैं, वहीं टी20 में इस युवा खिलाड़ी के नाम 23.45 की औसत से 1,126 रन हैं।अंडर-19 विश्व विजेता टीम के सदस्य थे हिमांशु, द्रविड़ कोचइसके साथ ही टीम इंडिया के हेड कोच राहुल द्रविड़ की निगाहें जरूर अपने शिष्य पर टिकी होंगी, जबकि सिलेक्टर अजित अगरकर भी देख रहे होंगे। अगर हिमांशु ऐसी ही पारियां खेलते रहे तो सिलेक्टर्स उन्हें जल्द ही टीम इंडिया में शामिल कर सकते हैं। बता दें कि जब पृथ्वी शॉ की कप्तानी वाली अंडर-19 टीम विश्व विजेता बनी थी तो शुभमन गिल और रियान पराग के साथ हिमांशु भी राहुल द्रविड़ की कोचिंग में खेल रहे थे।