पार्टी में क्या चल रहा है ये पता नहीं, फिर भी CM पर तंज, उद्धव ठाकरे पर क्यों भड़के मोहित कंबोज?

मुंबई: कामाख्या देवी (Kamakhya Devi) के दर्शन के लिए गुवाहाटी जाने पर पर जमकर उद्धव ठाकरे गुट की तरफ से निशाना साधा गया है। हालांकि, इसी अंदाज में शिंदे खेमे से भी तल्ख टिप्पणी की गई है। देवी के दर्शन और हाथ दिखाकर भविष्य जानने की कोशिश के मामले में एकनाथ शिंदे (Eknath Shinde) विपक्ष के निशाने पर थे। एकनाथ शिंदे के साथ ही (Mohit Kamboj) भी गुवाहाटी में कामाख्या देवी माता के दर्शन के लिए साथ में गए थे। शिंदे पर लगातार हो रहे हमले के बाद मोहित कंबोज ने भी उद्धव ठाकरे गुट पर जमकर निशाना साधा। उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) पर निशाना साधते हुए मोहित कंबोज ने कहा कि जिन लोगों यह नहीं पता है कि उनकी पार्टी में क्या चल रहा है। उन्हें दूसरे दल पर टिप्पणी करने का कोई अधिकार नहीं है। जिन्हें यह भी नहीं पता कि उनके विधायक उन्हें छोड़ने वाले हैं। उन्हें दूसरों पर आरोप लगाना शोभा नहीं देता। बेहतर होगा कि वो पहले अपनी पार्टी पर ध्यान दें।

मोहित कंबोज ने न सिर्फ उद्धव ठाकरे बल्कि सांसद संजय राउत पर भी जमकर निशाना साधा। कंबोज ने कहा कि बीते तीन महीनों तक संजय राउत जेल यात्रा पर थे। इसलिए उनका मानसिक संतुलन बिगड़ चुका है। इसलिए फिलहाल उन्हें जो कुछ भी बोलना है बोलने दिया जाए। कंबोज ने कहा कि संजय राउत के पास फिलहाल सुबह से लेकर शाम तक सिर्फ निगेटिव बातें बोलने के अलावा दूसरा कोई काम नहीं है। जेल से निकलने के बाद से वो मानसिक रूप से अस्वस्थ हैं। मोहित कंबोज द्वारा उद्धव ठाकरे गुट पर निशाना साधे जाने के बाद यह माना जा रहा है कि आने वाले दिनों में दोनों तरफ से जुबानी जंग शुरू होगी। कंबोज की प्रतिक्रिया पर संजय राउत क्या बोलते हैं इस पर भी सबकी निगाहें टिकी हुई हैं।

मुंबई में बनेगा असम भवन
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने रविवार को कहा कि उन्होंने असम के मुख्यमंत्री हिमंत विश्व शर्मा के अनुरोध पर नवी मुंबई में असम भवन के निर्माण को अनुमति दे दी है। गुवाहाटी में शर्मा के साथ बैठक के बाद शिंदे ने कहा कि इसी तरह एक महाराष्ट्र भवन असम में भी बनेगा।शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) नेता संजय राउत ने हालांकि कहा कि असम भवन पहले से नवी मुंबई में स्थित है, हर राज्य यहां भूमि चाहता है पर महाराष्ट्र के लिए अन्य राज्यों में जगह नहीं है। शिंदे के कार्यालय की ओर से जारी बयान के मुताबिक दोनों नेताओं ने उद्योग, व्यापार और पर्यटन के क्षेत्र में राज्यों के बीच आपसी सहयोग बढ़ाने पर चर्चा की। शिंदे और उनके मंत्री और सांसदों ने अपने-अपने परिवार के साथ कामाख्या देवी मंदिर में शनिवार को दर्शन किये और इसके बाद शर्मा के साथ एक मिलन समारोह में शामिल हुए। शिंदे ने शर्मा को महाराष्ट्र आने का न्योता दिया।