सुरेखा यादव को जानते हैं आप? आज पीएम मोदी ने मन की बात में की तारीफ

मुंबई: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन चलाने वाली देश की पहली महिला लोको पायलट सुरेखा यादव की जमकर तारीफ की है। पीएम ने कहा कि आपने सोशल मीडिया पर एशिया की पहली महिला लोको पायलट सुरेखा यादव जी को जरूर देखा होगा। एक नया कीर्तिमान स्थापित करते हुए वह अब वंदे भारत एक्सप्रेस की भी पहली महिला लोको पायलट बन गईं हैं। कुछ पहले ही नवभारत टाइम्स ऑनलाइन ने सुरेखा यादव का खास बातचीत की थी। जिसमें उन्होंने पीएम मोदी का शुक्रिया अदा किया था। सुरेखा यादव ने कहा था कि मैं पीएम मोदी की शुक्रगुजार हूं। अगर वह यह ट्रेन मुंबई सेक्शन में न चलाते तो शायद मुझे वंदे भारत चलाने का मौका नहीं मिल पाता। 34 साल का शानदार अनुभव सुरेखा यादव ने बताया कि उन्होंने 34 साल पहले 13 फरवरी 1989 को एक सहायक लोको पायलट के रूप में अपनी नौकरी की शुरुआत की थी। वह महाराष्ट्र के सतारा जिले की हैं। सुरेखा कहती हैं उन्होंने यह कभी नहीं सोचा था कि यह नौकरी उन्हें देशभर में एक अलग पहचान मिलेगी। सुरेखा ने बताया कि यह नौकरी काफी जिम्मेदारियों भरी है जिसमें कभी भी आना और जाना पड़ता है। घर वाले यह बखूबी समझते हैं कि यह जॉब बेहद जिम्मेदारी वाली है। ऐसे में वो लोग मुझे ज्यादा डिस्टर्ब नहीं करते हैं। यह सब कुछ बिना परिवार के सपोर्ट के संभव नहीं हो पाता। उन्होंने बताया शादी के पहले मां-बाप और शादी के बाद ससुराल वालों ने बहुत सपोर्ट दिया।वंदे भारत ने दिलाई पहचान वंदे भारत की पायलट बनने से मिली पहचान की वजह सुरेखा काफी खुश हैं। वह कहती हैं कि आज जब आसपास के लोग मिलते हैं तो काफी खुश होते हैं। कहते कि कि मैडम आप वंदे भारत चलाती हैं पहले यह पता नहीं था लेकिन अब आप पर गर्व है। खासतौर पर महिलाएं काफी प्रभावित नजर आती हैं।