खांसी-जुकाम हल्के में न लें, बात टेंशन की भी है, कोरोना बढ़ने पर डॉ. त्रेहन ने सुझाए 3 ‘मंत्र’

नई दिल्ली: भारत में कोरोना के मामले पिछले कुछ दिनों में फिर से बढ़ने लगे हैं। 900-1000 से ज्यादा केस रोज आ रहे हैं। बेफिक्र दिख रहे लोगों के मन में भी कहीं न कहीं एक चिंता पैदा हो गई है। मेदांता अस्पताल के चेयरमैन डॉ. नरेश त्रेहन से जब यही सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि यह टेंशन की बात है कि कोविड के मामले बढ़ रहे हैं। जैसाकि हम लोग पहले से मानकर चल रहे हैं कि यह वायरस कहीं गायब नहीं होने वाला है। यह अलग-अलग रूप में सामने आएगा। उन्होंने समाचार एजेंसी ANI से कहा, ‘आपको ओमिक्रोन वेव याद होगी जिसमें 3-4 दिन बीमार रहते थे और हम कहते थे कि सात दिन में आप वापस घर जा सकते हैं। इसी प्रकार से आप देखेंगे कि कई लोगों को शरीर दर्द, गले में खराश, बुखार की समस्या हो रही है। जनता, डॉक्टर और प्रशासन में भी कन्फ्यूजन हो गया कि कितनी तेजी से कोविड टेस्टिंग की जानी चाहिए क्योंकि अगर यह कोविड है तो आपको ज्यादा केयरफुल होना है जिससे यह फैले नहीं।’ कोरोना फैलने से रोकना होगात्रेहन ने आगे कहा कि जब हम कोरोना केस के बढ़ने का ट्रेंड देख रहे हैं तो कोविड उपयुक्त व्यवहार का पालन फिर से शुरू कर देना चाहिए। क्योंकि अगर यह फैलता है जैसा कि आंकड़ों में दिखाई दे रहा है तो हमें फौरन रोकने की कोशिश करनी होगी। इसके लिए तीन विकल्प हैं। पहला, हर शख्स खुद को बचाए मतलब जब भी आप बाजार या ऑफिस जाएं तो मास्क जरूर पहनिए। घनी आबादी वाले इलाकों में जाने से बचिए। खांसी-जुकाम है तो…दूसरा, इस बात को लेकर अलर्ट रहिए कि अगर आपके आसपास किसी को खांसी-जुकाम है तो उससे दूर रहें। मास्क के साथ-साथ हाईजीन का ख्याल रखिए। अगर आपको कोल्ड और कफ है तो खुद को आइसोलेशन में रखिए। इसे हल्के में मत लीजिए कि यह आम बुखार-जुकाम है क्योंकि कोविड बहुत तेजी से फैलता है। 4-5 दिन खुद को आइसोलेशन में रखना जरूरी है। विटामिन सी जैसी चीजें भी लेते रहिए। तीसरा, सरकार भी अब दिशानिर्देश जारी कर सकती है और डेटा व्यापक स्तर पर जारी किए जाएं जिससे लोगों को भी बात समझ में आए। क्या लॉकडाउन लगेगा?डॉ. त्रेहन ने कहा कि अगर कोई पूछे तो क्या लॉकडाउन लगेगा? नहीं, इसकी कोई वजह नहीं है लेकिन क्या हम फ्लू और कोविड को फैलने से रोकने के लिए थोड़ा सतर्क नहीं हो सकते हैं? हां, हमें ऐसा करना चाहिए। मेरी तीन सूत्रीय सलाह लोगों के लिए है। उन्होंने कहा कि सरकार के स्तर पर मंथन शुरू भी हो गया है। प्रधानमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री ने बैठक की है। कोरोना के हालात पर अब लोगों को समझना होगा कि कोरोना कहीं गया है, सावधान रहिए।