DMK ने लोकसभा घोषणापत्र, सीट-बंटवारे की बातचीत, समन्वय के लिए बनाए तीन पैनल

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्टालिन ने शुक्रवार को इस साल के अंत में लोकसभा चुनाव की तैयारी के लिए सत्तारूढ़ द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (डीएमके) की तीन समितियों के गठन की घोषणा की। बयान के अनुसार, थूथुक्कुडी लोकसभा सदस्य के कनिमोझी पार्टी की घोषणापत्र समिति की प्रमुख होंगी। श्रीपेरंबुदूर के सांसद टीआर बालू सहयोगियों के साथ सीट-बंटवारे की बातचीत के लिए समिति का नेतृत्व करेंगे और तमिलनाडु के नगरपालिका प्रशासन मंत्री केएन नेहरू चुनाव कार्य के समन्वय की निगरानी के लिए गठित समिति की अध्यक्षता करेंगे। इसे भी पढ़ें: Prajatantra: 131 सीट और हिंदुत्व कार्ड, दक्षिण में BJP का प्लान जमीन पर उतारने में जुटे PM मोदीएमके स्टालिन ने एक्स पर अपने पोस्ट में कहा कि चलो काम पूरा करें! जीतना है। तमिलनाडु के खेल मंत्री और डीएमके की युवा शाखा के प्रमुख उदयनिधि स्टालिन को केएन नेहरू के नेतृत्व वाली समिति में नियुक्त किया गया है। इस पैनल में नेहरू के अलावा वित्त मंत्री थंगम थेनारासु, नगरपालिका प्रशासन मंत्री केएन नेहरू, डीएमके संगठन सचिव आरएस भारती और सार्वजनिक निर्माण मंत्री ईवी वेलु जैसे वरिष्ठ पार्टी नेता भी शामिल हैं।इसे भी पढ़ें: राजस्थान में लोस सीटों पर जिताऊ उम्मीदवारों को दिया जाएगा टिकट, युवा नेताओं पर रहेगा ध्यान: कांग्रेसमुख्यमंत्री और द्रमुक अध्यक्ष एम के स्टालिन के एक बयान में कहा गया, यह समिति आगामी लोकसभा चुनावों के लिए काम का समन्वय और निगरानी करेगी। हयोगियों के साथ बातचीत के लिए टीआर बालू के नेतृत्व वाली समिति में राज्य के उच्च शिक्षा मंत्री के पोनमुडी भी शामिल हैं, जिन्हें 21 दिसंबर को आय से अधिक संपत्ति के मामले में दोषी ठहराया गया था, जिसके कारण उन्हें विधायक के रूप में अयोग्य घोषित कर दिया गया था। पोनमुडी और उनकी पत्नी पी विशालाक्षी को उच्च न्यायालय ने तीन साल की जेल की सजा सुनाई है, लेकिन उच्चतम न्यायालय ने उन्हें आत्मसमर्पण करने और सजा काटने से छूट दे दी है क्योंकि उनकी अपील लंबित है।