दिल्ली के मोहित सहरावत ने कंधे की चोट के बावजूद 81 किग्रा जूडो का स्वर्ण पदक जीता

दिल्ली के मोहित सहरावत ने कंधे की चोट के बावजूद शनिवार को यहां राष्ट्रीय खेलों की पुरूषों की 81 किग्रा जूडो स्पर्धा में स्वर्ण पदक पर कब्जा किया।
मोहित का दाहिना कंधा अपनी जगह से हिल गया था लेकिन उन्होंने और चोट से बचने के बजाय मुकाबला खेलने का फैसला किया। फिर उन्होंने दोनों सेमीफाइनल के बाद फाइनल मुकाबला जीत लिया।
इस साल के शुरू में लखनऊ में सीनियर राष्ट्रीय खिताब जीतने वाले मोहित का कंधा पंजाब के सरबजीत सिंह के खिलाफ क्वार्टर फाइनल के बीच में ही उतर गया था।
दिल्ली के जूडोका ने कहा कि उनका अगला लक्ष्य अगले साल एशियाई खेलों में जगह बनाना होगा।
मोहित ने कहा, ‘‘भारतीय जूडो खिलाड़ियों ने अंतरराष्ट्रीय सर्किट पर अच्छा करना शुरू कर दिया है। हमने इस साल राष्ट्रमंडल खेलों में पदक जीते थे। मेरे लिये अब लक्ष्य अगले साल एशियाई खेलों में खेलना है। ’’
अन्य मुकाबलों में लाल हुमहिमी ने मिजोरम को खेलों का पहला स्वर्ण पदक दिलाया। उन्होंने 52 किग्रा महिला वर्ग के फाइनल में दिल्ली के पिंकी बलहारा को हराया।
मध्य प्रदेश की यामिनी मौर्या ने महिला 57 किग्रा वर्ग के फाइनल में हरियाणा की सावित्री को जबकि हरियाणा के विशाल रूही ने पुरूषों के 73 किग्रा वर्ग में अपने ही राज्य के जतिन को पराजित किया।