‘फैसला INDI गठबंधन के लिए मौत की घंटी’, ममता के अकेले चुनाव लड़ने के ऐलान को BJP ने बताया हताशा

विपक्षी गुट को एक बड़ा झटका देते हुए, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) प्रमुख ममता बनर्जी ने बुधवार को घोषणा की कि उनकी पार्टी आगामी लोकसभा चुनाव अकेले लड़ेगी। उन्होंने जोर देकर कहा कि टीएमसी राज्य में किसी भी गठबंधन में शामिल नहीं होगी। यह भाजपा के खिलाफ बने इंडिया गठबंधन को तगड़ा झटका है। अब भाजपा ने भी इसको लेकर चुटकी ली है। भाजपा के अमित मालविया ने कहा कि पश्चिम बंगाल में अकेले लड़ने का ममता बनर्जी का फैसला हताशा का संकेत है। अपनी राजनीतिक जमीन बरकरार रखने में असमर्थ, वह सभी सीटों पर लड़ना चाहती है, इस उम्मीद में कि चुनाव के बाद भी वह प्रासंगिक बनी रह सकती है।  इसे भी पढ़ें: INDIA गठबंधन को बड़ा झटका, Mamata Banerjee ने अकेले चुनाव लड़ने का ऐलान, बोलीं- मेरे प्रस्ताव को अस्वीकार किया गयाभाजपा नेता ने कहा कि विपक्षी गठबंधन के चेहरे के रूप में उभरने की उनकी इच्छा के विपरीत, किसी ने भी उनके नाम का प्रस्ताव नहीं रखा। राष्ट्रीय प्रोफ़ाइल बनाने के लिए उनकी दिल्ली की कई यात्राएँ काम नहीं आईं। वह चुनाव के बाद की हिंसा के खून को छिपा नहीं सकीं और तुष्टीकरण की राजनीति की दुर्गंध से खुद को मुक्त नहीं कर सकीं। उन्होंने दावा किया कि शर्मिंदा ममता ने अपना चेहरा बचाने के लिए मल्लिकार्जुन खड़गे की वकालत की और खुद को इस प्रक्रिया से बाहर कर दिया। वह लंबे समय से बाहर निकलने के लिए जमीन तैयार कर रही थीं। लेकिन तथ्य यह है कि राहुल गांधी के बंगाल में सर्कस आने से ठीक पहले उनकी अकेले चुनाव लड़ने की घोषणा आई.एन.डी.आई. गठबंधन के लिए एक मौत की घंटी है। भाजपा के शहजाद पूनावाला ने कहा कि INDI के सहयोगी दल ही हर दिन अपने गठबंधन के महल को ध्वस्त कर रहे हैं. दिल्ली आकर दोस्ती तो कर लेते हैं लेकिन पश्चिम बंगाल में कुश्ती लड़ लेते हैं… हर जगह एक नया टकराव देखने को मिलता है। 5 बैठकों के बाद भी उनके पास न कोई झंडा है, न एजेंडा, न नेता, न नीति और न ही नियत। उन्होंने कहा कि वे सिर्फ भ्रम, भ्रष्टाचार और पारिवारिक पेशे को आगे बढ़ाने वाले लोगों से भरे हुए हैं। लोगों ने उन लोगों का समर्थन करने का फैसला किया है जिनके पास एक मिशन है, न कि उनका जो हर दिन भ्रम में रहते हैं। इसे भी पढ़ें: Prajatantra: सद्भावना रैली के जरिए Mamata Banerjee ने खेला कौन सा दांव, अब क्या करेगी BJP? पश्चिम बंगाल बीजेपी अध्यक्ष सुकांत मजूमदार ने कहा कि यह गठबंधन अप्राकृतिक है, क्योंकि पश्चिम बंगाल में कांग्रेस और सीपीएम ममता बनर्जी के खिलाफ लड़ रही हैं। कुछ समय पहले पंचायत चुनाव में कांग्रेस और सीपीएम को टीएमसी कार्यकर्ताओं ने बुरी तरह पीटा था। ममता बनर्जी को ग्राउंड रिपोर्ट पता है। कर्नाटक बीजेपी नेता बसवराज बोम्मई ने कहा कि इंडिया गठबंधन टूट गया है। ममता बनर्जी, नीतीश कुमार और अखिलेश कुमार जैसे नेताओं के बिना, इंडिया गठबंधन क्या है? ये कांग्रेस के लिए बड़ा झटका है।Mamata Banerjee’s decision to fight alone in West Bengal is a sign of desperation. Unable to hold her political ground, she wants to fight all seats, in the hope that she can still be relevant, after the polls.Much against her desire, to emerge as the face of the Opposition…— Amit Malviya (@amitmalviya) January 24, 2024