‘बेंच पर नहीं जमीन पर बैठ तू’- सरकारी स्कूल में दबंगों ने दलित छात्र को बेरहमी से पीटा

मध्य प्रदेश के सतना में शासकीय उच्चतर माध्यमिक हायर सेकेंडरी स्कूल की 11वीं कक्षा के ऊंची जाति के दो दबंग छात्रों ने दलित छात्र को न सिर्फ जातिगत गाली दी, बल्कि स्कूल की छुट्टी होने पर दलित छात्र के साथ जमकर मारपीट भी की. जिससे दलित छात्र घायल हो गया. छात्र को फौरन अस्पताल में भर्ती कराया गया. जहां छात्र की हालात में सुधार न होने से उसे सतना जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया है, जहां डॉक्टर छात्र का इलाज कर रहे हैं. इतनी संवेदनशील घटना होने के बावजूद आरोपियों के खिलाफ पुलिस की लचर कार्रवाई सवालों के घेरे में है, इतना ही नहीं मामले में स्कूल प्रबंधन और पुलिस चुप्पी साधे हुए है.
सतना के कोठी थानाक्षेत्र के पवैया गांव निवासी 11वीं कक्षा का दलित छात्र मोहित वर्मा कोठी कस्बे के शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय पढ़ने गया था. घायल दलित की माने तो जैसे ही वह क्लास रूम के अंदर जाकर बेंच पर बैठा, तभी 11वीं के ही छात्र अभिमन्यु उरमलिया और प्रिंस शर्मा, छात्र मोहित वर्मा के पास पहुंचे और जातिगत गाली गलौज देते हुए कहा कि तुम चमार हो बेंच में नहीं जमीन पर बैठो, जब मोहित बेंच से नहीं उठा तो दोनो दबंग छात्रों ने क्लास रूम में ही मोहित के साथ मारपीट कर दी.
घेराबंदी कर दबंग छात्रों ने मोहित को पीटा
कक्षा के छात्रों के बीच बचाव करने पर मामला शांत हुआ. इस घटना की शिकायत छात्र मोहित मैडम से कर दी. जिसके बाद छुट्टी होने पर जब दलित छात्र मोहित वर्मा स्कूल के बाहर निकला, तो घेराबंदी कर दोनो दबंग छात्रों ने उसके साथ जमकर मारपीट की, मारपीट से मोहित बेहोश होकर गिर गया, स्थानीय लोगों ने घायल छात्र को कोठी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती करा दिया. खबर मिलते ही परिजन अस्पताल पहुंच गए. घायल मोहित की तबियत में सुधार न होने पर डॉक्टर ने उसे सतना जिला अस्पताल रेफर कर दिया.
स्कूल की तरफ से नहीं की गई कोई कार्रवाई
जिला अस्पताल पहुंचते ही डॉक्टरों ने घायल छात्र को भर्ती कर इलाज शुरू कर दिया. घायल मोहित ने बताया कि दबंग छात्र अभिमन्यु और प्रिंस ने कई बार उसे जातिगत गाली गलौज और मारपीट की, लेकिन आज उन दोनों ने उसे बहुत बुरी तरह पीटा, मोहित ने बताया कि स्कूल के बाहर मारपीट के बाद वह बेहोश हो गया था. उसे यह नहीं पता कि वह अस्पताल कैसे पहुंचा.
इतनी संवेदनशील घटना होने के बावजूद कोठी पुलिस ने न तो मामले में संज्ञान लिया, न कोठी अस्पताल पहुंचकर घायल के बयान ही लिया. मामला सोशल मीडिया में वायरल होने के बाद पुलिस कार्रवाई कागजी खानापूर्ति तक सीमित है, दबंग छात्र खुलेआम घूमकर अपनी दबंगई का प्रदर्शन कर रहे हैं. पूरे मामले में हैरानी की बात यह रही कि स्कूल प्रबंधन और पुलिस मामले में चुप्पी साधे हुए है. देखना दिलचस्प होगा कि इंसानियत के खिलाफ इस घटना को लेकर आरोपियों और स्कूल प्रबंधन के खिलाफ कोई कार्रवाई होती है या नहीं.