दीवारों में मिले थे करोड़ो रुपये, अब आयकर विभाग की हरियाणा के दो उद्योगपतियों के यहां रेड

फरीदाबाद: दिल्ली आयकर विभाग की टीम ने बुधवार अलसुबह शहर में दो बड़े कारोबारियों के यहां रेड की। इनके घर और संस्थानों में पांच जगह पर एक साथ छापेमारी की गई। टीम ने कंपनी मालिक और व्यापारियों के मोबाइल, लैपटॉप समेत सभी जरूरी कागजात कब्जे में ले लिए। देर शाम तक कंपनी मालिकों से पूछताछ जारी रही। करोड़ों रुपये से ज्यादा की टैक्स चोरी की आशंका जताई जा रही है। केंद्रीय वस्तु एवं सेवाकर आयुक्तालय (सीजीएसटी) की टीम ने 2023 में इनपुट टैक्स क्रेडिट (आईटीसी) के चोरी के मामले में फरीदाबाद सेक्टर-6 स्थित एवन ट्यूबटेक कंपनी पर छापा मारा था। टीम ने मौके से करोड़ों रुपये नकद बरामद किए थे। यह कैश दीवारों के अंदर छिपाकर रखा गया था। टीम ने इसकी जानकारी आयकर विभाग को दी थी। आरोप है कि उद्यमी इनकम टैक्स रिटर्न फाइल किए बिना ही कारोबार कर रहा था। इसके साथ ही टीम ने एवन से संबंधी सेक्टर-58 स्थित ज्योति स्ट्रिप और नेहरू ग्राउंड स्थित मेटल ट्रेडिंग कंपनी पर भी फर्जीवाड़े में शामिल होने की आशंका जताई थी।फरीदाबाद आयकर विभाग को भी लिखा था पत्रकार्रवाई के बाद सीजीएसटी टीम ने फरीदाबाद आयकर विभाग को जांच के लिए पत्र लिखा था, लेकिन विभाग शांत रहा। इसके चलते एक पत्र दिल्ली आयकर विभाग को भी भेजा गया। दिल्ली की टीम ने फरीदाबाद अधिकारियों की कंपनी के साथ सांठगांठ होने की आशंका के चलते बुधवार सुबह सेक्टर-58 स्थित ज्योति स्ट्रिप और नेहरु ग्राउंड स्थित मेटल ट्रेडिंग कंपनी के साथ ही मालिकों के सेक्टर-15 और 9 स्थित आवास पर एक साथ छापा मारा। सुबह-सुबह टीम की गाड़ियां देख आसपास के लोगों में अफरातफरी का माहौल बन गया। टीम में शामिल 20 से अधिक अधिकारियों ने मालिकों के साथ परिवार के सभी सदस्यों के मोबाइल और लैपटॉप कब्जे में ले लिए। किसी को भी घर और कंपनी से अंदर बाहर जाने की अनुमति नहीं दी गई। पिछले साल CGST ने मारा था छापासूत्रों के अनुसार, यह कार्रवाई सीजीएसटी अधिकारियों की ओर से आईटी विभाग को लिखे गए पत्र के आधार पर हुई है। फरीदाबाद में मेटल के काम से जुड़ी एक कंपनी के यहां सीजीएसटी की टीम ने पिछले साल रेड की थी। उस वक्त सीजीएसटी की टीम को कागजों की छानबीन के वक्त इन दो कारोबारियों के संस्थानों पर शक हुआ था कि इन्होंने भी जरूरी टैक्स और जीएसटी की चोरी की है। इसे लेकर पिछले साल अगस्त से पहले एक लेटर सीजीएसटी टीम ने इनकम टैक्स इनवेस्टिगेशन को लिखा, ताकि जांच हो सके। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार फरीदाबाद इनकम टैक्स के अधिकारियों को बताए बगैर खुद दिल्ली इनकम टैक्स की टीम ने डायरेक्ट रेड कर दी। रेड के दौरान कागजात खंगालने के अलावा पूछताछ भी हुई।