भाकपा महासचिव ने बिलकीस बानो मामले में न्यायालय के फैसले की सराहना की

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) के महासचिव डी. राजा ने सोमवार को बिलकीस बानो सामूहिक दुष्कर्म मामले के दोषियों को दी गई माफी को रद्द करने के उच्चतम न्यायालय के फैसले की सराहना की।
एक कार्यक्रम में शामिल होने पटना आए राजा ने बाद में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से भी मुलाकात की।
राजा ने सोशल मीडिया मंच ‘एक्स’ पर शीर्ष अदालत के फैसले के बारे में एक खबर को साझा करते हुए लिखा, ‘‘उच्चतम न्यायालय की टिप्पणी कि बिलकीस बानो मामले में दोषियों को माफी धोखाधड़ी और तथ्यों को दबाकर प्राप्त की गई थी, ने भाजपा के महिला सुरक्षा और सशक्तिकरण के खोखले दावों को उजागर कर दिया है।’’
उच्चतम न्यायालय ने गुजरात में 2002 के दंगों के दौरान बिलकीस बानो से सामूहिक दुष्कर्म और उनके परिवार के सात सदस्यों की हत्या के मामले में 11 दोषियों को सजा में छूट देने के राज्य सरकार के फैसले को सोमवार को यह कहते हुए रद्द कर दिया कि आदेश ‘‘ घिसा पिटा ’’ था और इसे बिना सोचे – समझे पारित किया गया था।
इससे पहले, दिवंगत भाकपा नेता चंद्रशेखर सिंह की स्मृति में आयोजित एक समारोह को संबोधित करते हुए, राजा ने अयोध्या में राम मंदिर को चुनावी मुद्दा बनाने के लिए मोदी सरकार की आलोचना की।
उन्होंने आरोप लगाया कि केरल और तमिलनाडु जैसे राज्यों में भाजपा बड़ी ताकत नहीं है, वहां भी राम मंदिर के मुद्दे पर लोगों को भड़काने की कोशिश की जा रही है।