G20 के बीच Congress नेता का बयान, दुनिया को बताने के लिए इतिहास में बीजेपी का नाम नहीं

महाराष्ट्र के नेता प्रतिपक्ष और कांग्रेस नेता विजय वडेट्टीवार ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के पास दुनिया को बताने के लिए इतिहास में कोई नाम नहीं है। यह तब हुआ जब अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन, ब्रिटेन के प्रधान मंत्री ऋषि सुनक और संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस सहित जी20 नेताओं ने रविवार को दिल्ली में उनके स्मारक राजघाट पर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि अर्पित की। वडेट्टीवार ने कहा, ”हमें बहुत गर्व है कि जी 20 टीम ने बापू की समाधि का दौरा किया।” उन्होंने यह भी कहा कि इतिहास कांग्रेस का है। महात्मा गांधी ने आजादी दिलाई, बीआर अंबेडकर ने संविधान का मसौदा तैयार किया और कोई भी उनके बिना भारत के इतिहास को नहीं समझ सकता। इसे भी पढ़ें: Rajasthan में Priyanka Gandhi का आरोप, भाजपा की नीतियां अमीरों के लिए हैं, न कि गरीबों के लिएविजय वडेट्टीवार ने कहा कि बाबा (बाबासाहेब अम्बेडकर) ने संविधान का मसौदा तैयार किया और बापू (महात्मा गांधी) ने इस देश को आजादी दी… कोई इन दोनों को एक तरफ रखकर भारत का इतिहास नहीं लिख सकता और समझ नहीं सकता। ये बात पूरी दुनिया जानती है। उन्होंने कहा कि हमें बहुत गर्व है कि जी 20 टीम ने बापू की समाधि का दौरा किया। बीजेपी के पास दुनिया को बताने के लिए इतिहास में कोई नाम नहीं है…इतिहास कांग्रेस, गांधी, अंबेडकर और नेहरू का है।  इसे भी पढ़ें: Telangana Congress Scheme: तेलंगाना विधानसभा चुनाव से पहले 17 सितंबर को ‘पांच गारंटी’ की घोषणा करेगी कांग्रेसमहात्मा गांधी को श्रद्धांजलिअमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन, ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ऋषि सुनक और संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस सहित जी20 नेताओं ने रविवार सुबह यहां महात्मा गांधी के स्मारक राजघाट पर पहुंचकर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने राजघाट पर जी20 नेताओं की अगवानी की। उन्होंने जी20 नेताओं को अंगवस्त्रम पहनाकर उनका स्वागत किया। इस दौरान, पृष्ठभूमि में साबरमती आश्रम का चित्र दिखाई दिया, जो 1917 से 1930 तक महात्मा गांधी का निवास स्थान था और जिसने स्वतंत्रता संग्राम के मुख्य केंद्रों में से एक के रूप में काम किया। जी20 नेताओं ने महात्मा गांधी की समाधि पर पुष्पांजलि अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि दी। इस दौरान, मोदी और सुनक सहित कुछ नेता नंगे पैर चलते नजर आए, जबकि अन्य को राजघाट पर आगंतुकों को प्रदान किए गए सफेद जूते पहने देखा गया।