इधर का माल उधर करने में उस्ताद है Congress! Donate for Desh अभियान के तहत जारी कर दिया फर्जी URL व QR Code, कांग्रेस कार्यकर्ताओं का पैसा जा रहा था कहीं और

भाजपा की ओर से कांग्रेस पर अक्सर भ्रष्टाचार, पैसों के हेरफेर, घोटाले तथा अन्य वित्तीय अनियमितताओं के आरोप लगाये जाते हैं। हालांकि कांग्रेस आरोपों को घटिया राजनीति बताकर खारिज कर देती है लेकिन अब जो चीज सामने आ रही है उससे दो प्रश्न उठते हैं- पहला. क्या कांग्रेस ने अपने ही नेताओं और कार्यकर्ताओं से मिले चंदे की रकम में घोटाला कर दिया? दूसरा. क्या देश में कम्प्यूटर लाकर आईटी और संचार क्रांति पैदा करने का दावा करने वाली कांग्रेस को जरा भी तकनीकी ज्ञान नहीं है? हम यह सवाल इसलिए पूछ रहे हैं क्योंकि जब कांग्रेस ने पिछले महीने 18 दिसंबर को चंदा जुटाने के लिए ‘डोनेट फॉर देश’ अभियान शुरू किया था तो इस अभियान के लिए वेबसाइट का यूआरएल बुक नहीं कराया था जिससे होता यह था कि जो भी डोनेट फॉर देश सर्च करता था उसको सर्च इंजन भाजपा या एक मीडिया संस्थान की वेबसाइट पर ले जाते थे। मतलब कि चंदा मांग कांग्रेस रही है लेकिन सर्च इंजन दानकर्ता को भाजपा की वेबसाइट पर ले जा रहा था। जल्द ही कांग्रेस को इस गलती का अहसास हुआ तो एक वेबसाइट भी बनाई गयी और एक क्यूआर कोड जेनरेट कर उसका प्रचार किया गया ताकि सही खाते में पैसे जायें लेकिन अब सामने आया है कि उसमें भी बड़ा घपला हो गया है। हम आपको बता दें कि आरोप है कि कांग्रेस पार्टी ने खुद ही एक फर्जी वेबसाइट को बढ़ावा दिया है जोकि उसके आधिकारिक अभियान की वेबसाइट के समान दिखती है। इस फर्जी वेबसाइट के चलते नेता और कार्यकर्ता कांग्रेस पार्टी को जो पैसा दे रहे थे वो किसी और के खाते में जा रहा था।इसे भी पढ़ें: Prajatantra: मोदी, योगी और श्री राम, चर्चा में ये तीन नाम, विपक्ष का कहां है ध्यानहम आपको बता दें कि बुधवार (10 जनवरी 2024) को भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने राहुल गांधी की आगामी ‘भारत न्याय यात्रा’ से पहले एक विशेष पैम्फलेट जारी किया। पैम्फलेट में ‘डोनेट फॉर देश’ वेबसाइट के क्यूआर कोड और यूआरएल का भी उल्लेख किया गया था। लेकिन यह क्यूआर कोड और यूआरएल दोनों गलत थे। आधिकारिक ‘डोनेट फॉर देश’ अभियान का यूआरएल Donateinc.in है, लेकिन पैम्फलेट पर Donateinc.co.in छपा हुआ था और क्यूआर कोड में भी इसका इस्तेमाल किया गया था। फर्जी वेबसाइट Donateinc.co.in हुबहू कांग्रेस के आधिकारिक अभियान की वेबसाइट जैसी ही है। इसे कांग्रेस पार्टी को दान देने के इच्छुक लोगों को धोखा देने के लिए बनाया गया है। यदि कोई व्यक्ति सतर्क नहीं है, तो वह सोचेगा कि पैसा कांग्रेस पार्टी को जा रहा है, लेकिन वास्तव में यह अज्ञात लोगों के पास जाता है। फर्जी वेबसाइट केवल UPI ऐप्स के माध्यम से ही दान स्वीकार कर रही थी।बताया जा रहा है कि इस फर्जी क्यूआर कोड के जरिये कांग्रेस पार्टी को चंदा दे रहे व्यक्ति को Google Pay पर संदेश कहता है कि वह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस को भुगतान कर रहा है, लेकिन नीचे दिया गया बैंकिंग नाम बताता है कि यह घोटाला है क्योंकि इसमें “रोज कैश” लिखा है। हालाँकि, हर कोई नीचे लिखे रोज कैश नाम को नोटिस नहीं करेगा इसलिए उसे गड़बड़ी का संदेह नहीं होगा क्योंकि वह तो कांग्रेस पार्टी द्वारा दिए गए एक आधिकारिक दस्तावेज़ से क्यूआर कोड को स्कैन करने के बाद उस वेबसाइट पर पहुँचा था। हम आपको बता दें कि मीडिया रिपोर्ट्स का दावा है कि इस गलती की वजह से कांग्रेस को अब तक लाखों रुपये का नुकसान हो चुका है। जहां तक फर्जी वेबसाइट की बात है तो आपको बता दें कि इसको 19 दिसंबर 2023 को राजस्थान से किसी व्यक्ति ने बुक किया था। यानि यूआरएल की बुकिंग कांग्रेस पार्टी द्वारा आधिकारिक तौर पर ‘देश के लिए दान’ अभियान शुरू किए जाने के ठीक एक दिन बाद की गयी थी।यहां दिलचस्प बात यह है कि कांग्रेस पार्टी ने इस धोखाधड़ी या गलती के बारे में कोई नाराजगी नहीं प्रकट की है ना ही कोई शिकायत दर्ज कराई है, ना ही पार्टी ने इस मुद्दे पर कोई आंतरिक जांच बैठाई है, तभी भाजपा प्रवक्ता डॉ. सुधांशु त्रिवेदी ने कहा है कि कांग्रेस तो शुरू से ही इधर का माल उधर करने वाली पार्टी है। उन्होंने कहा है कि पैसा इधर भेजने की बात करते हैं और उधर विदेश में भेज देते हैं इसलिए हमें ऐसी बात पर कोई हैरानी नहीं है।