दिल्ली में काम रोकने वाले अधिकारियों पर गिरेगी गाज! CM केजरीवाल ने दे दी चेतावनी

नई दिल्ली: दिल्ली में आम आदमी पार्टी और एलजी वीके सक्सेना के बीच पावर की लड़ाई पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आ चुका है। शीर्ष अदालत का फैसला केजरीवाल सरकार के पक्ष में गया है। इससे AAP नेताओं में खुशी का माहौल है। सीएम केजरीवाल ने भी इस फैसले को ऐतिहासिक और जनतंत्र की जीत बताया है। उन्होंने इसके बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस की और कहा कि यह जनता के साथ न्याय है। अब हम 10 गुना तेजी से काम करेंगे। उन्होंने इसके साथ काम रोकने वाले कर्मचारियों को भी देख लेने की बात कही है। काम रोके वाले लोगों पर गिरेगी गाज- केजरीवाल मीडिया से बात करते हुए केजरीवाल ने कहा कि आज सुप्रीम कोर्ट का जो आदेश आया है वो दिल्ली की जनता के सहयोग का नतीजा है। अब हमें दिल्ली के लोगों को रिस्पॉन्सिव प्रशासन देना है। अगले कुछ दिनों में दिल्ली में बड़ा प्रशासनिक फेरबदल होगा। कुछ अधिकारी ऐसे हैं जिन्होंने पिछले डेढ़ साल में जनता के काम रोके, ऐसे कर्मचारियों को चिह्नित किया जाएगा और उन्हें अपने कर्मों का फल भुगतना पड़ेगा। अब जिम्मेदारी भी है शक्ति भी है- केजरीवाल सीएम केजरीवाल ने एलजी औक केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि अफसरों के जरिए हर विभा का गला घोंटने का प्रयास किया गया है। उन्होंने आगे कहा कि पहले जिम्मेदारी थी तो शक्ति नहीं थी लेकिन अब जिम्मेदारी भी है और शक्ति भी है। केजरीवाल ने आगे कहा कि भ्रष्ट अधिकारियों को पद से हटाया जाएगा। उन्होंने कहा कि अभी हमारे पा विजिलेंस आ गया है। लेकिन एंटी करप्शन ब्यूरो यानी ACB नहीं है। पीएम मोदी का क्यों किया जिक्र केजरीवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि जैसे ही हमारी सरकार बनी प्रधानमंत्री ने केंद्र सरकार से एक आदेश पारित कराया। दिल्ली में काम करने वाले सभी अधिकारियों के ट्रांसफर और नौकरी से संबंधित सभी फैसले दिल्ली सरकार के पास नहीं रहेंगे। यानी अगर कोई रिश्वत ले रहा है तो हम उन्हें निलंबित भी नहीं कर सकते। इस आदेश का इस्तेमाल करके दिल्ली में कामों को जबरदस्ती रोका गया।