MP Board Exam में अव्यवस्थाओं का आलम! 5वीं-8वीं के स्टूडेंट्स ने दरी पर बैठकर दी परीक्षा

उज्जैन: मध्य प्रदेश में हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है. यहां एक शासकीय उच्चतर माध्यमिक स्कूल में कक्षा पांचवी और आठवीं के बच्चे सालाना एक्जाम देने पहुंचे थे. लेकिन इस स्कूल की अव्यवस्था देखकर न सिर्फ बच्चे परेशान हुए बल्कि उनके पैरेंट्स को भी बच्चों के रोल नंबर ढूंढने से लेकर उन्हें परीक्षा स्थल तक पहुंचाने में काफी समस्या का सामना करना पड़ा. ऐसे में परीक्षा के पहले पेपर में उन्हेल स्थित परीक्षा केंद्र पर बच्चों की परीक्षा किसी कक्ष और हॉल में नहीं. बल्कि गलियारे और स्कूल के खेल मैदान में आयोजित की गई.

दरअसल, ये मामला उन्हेल स्थित शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय का है. जहां के हालात कुछ ऐसे है कि जिसे कई स्कूलों का परीक्षा केंद्र बनाकर यहां परीक्षा तो आयोजित कर दी गई थी, मगर, स्कूल में परीक्षा लिए जाने की कोई व्यवस्था नहीं की गई थी. इस दौरान परीक्षार्थी नियमित समय पर स्कूल तो पहुंच गए लेकिन यहां पर ना तो रोल नंबर का नोटिस बोर्ड नजर आया और ना ही किसी प्रकार की चेकिंग व अन्य व्यवस्था.
दरी बिछाकर गलियारे और मैदान में हुई परीक्षा
वहीं, रोल नंबर का नोटिस बोर्ड ना होने से शुरू हुई अव्यवस्थाओं का दौर बच्चों के परीक्षा देने तक नजर आया. जिसमें इन बच्चों की परीक्षा किसी कक्ष या हॉल नहीं. बल्कि स्कूल के गलियारों और खेल के मैदान में दरी बिछाकर बच्चों को परीक्षा दिलवाई गई थी.

ये भी पढ़ें: Ujjain: महाकाल के दरबार में पहुंचे श्री श्री रविशंकर, गर्भगृह में टेका मत्था
प्रिंसिपल बोले- अगली बार सुधार लेंगे इंतजाम
दरअसल, स्कूल में एक्जाम के दौरान फैली अव्यवस्थाओं की जानकारी मिलते ही बच्चों के अभिभावक स्कूल पहुंचे. जिसके बाद बच्चों के परिजनों ने प्राचार्य से बात की. इस पर प्राचार्य का कहना था कि ज्यादा स्कूलों के एक्जाम एक साथ आयोजित करने पर यह अव्यवस्था सामने आई है. हालांकि, अगले पेपर से सभी व्यवस्था में सुधार ली जाएगी, लेकिन इस व्यवस्था पर अब सवाल उठाना लाजमी है. चूंकि, मध्य प्रदेश माध्यमिक मंडल की परीक्षा मे इस तरह की लापरवाही पर कार्यवाही होना जरुरी है.
300 की क्षमता वाले स्कूल में हो गई 600 बच्चों के एक्जाम
बता दें कि, उन्हेल के इस शासकीय उच्चतर माध्यमिक स्कूल में लगभग 300 बच्चों के बैठने की क्षमता है. मगर, शिक्षा विभाग के जिम्मेदारों ने ना जाने क्या अनुमान लगाकर इस स्कूल में 600 बच्चों की परीक्षा आयोजित कर दी. ऐसे में किसी तरह कक्षा पांचवी और आठवीं की पहली परीक्षा तो किसी तरह हो चुकी है. मगर, शिक्षा विभाग के जिम्मेदारों को चाहिए कि वह आने वाली परीक्षा के लिए इस स्कूल में बेहतर इंतजाम जरूर करें.
परीक्षा लेट होने पर अभिभावकों ने जताई नाराजगी
मिली जानकारी के अनुसार, कक्षा पांचवी और आठवीं की परीक्षा का समय सुबह 9:00 से 11:30 बजे तक होता है. मगर, उन्हेल के इस स्कूल में आज सुबह लगभग 9:20 तक बच्चों को उत्तर पुस्तिका और प्रश्न पत्र नहीं बंट पाए थे. जिस पर बच्चों के अभिभावकों ने नाराजगी जताई थी.

ये भी पढ़ें: Gwalior: बुजुर्ग मरीज को नहीं मिला स्ट्रेचर, चादर पर घसीटकर बहू ने पहुंचाया ट्रामा सेंटर; Video