गिरगिट, विश्वासघाती, अवसरवादी, थका हुआ नेता… नीतीश की पलटी पर किसने क्या कहा?

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव से पहले पलटी मारकर एक बार फिर एनडीए के खेमे में चले गए हैं। नीतीश कुमार की उलट पुलट की राजनीति से इंडिया गठबंधन के नेताओं में काफी नाराजगी है। वहीं इंडिया गठबंधन में जो राजनीतिक दल शामिल नहीं है, वह नीतीश की पलटी पर जमकर मजे ले रहे हैं। लोकसभा चुनाव से पहले नीतीश कुमार ने विपक्षी दलों को ठेंगा दिखाकर इंडिया गठबंधन की अबतक तैयारियों पर पानी फेर दिया है। नीतीश कुमार की इस हरकत से बेहद नाराज कांग्रेस ने उन्हें ‘आया राम-गया राम’ कहा है। साथ ही नीतीश की तुलना गिरगिट से की है। वहीं आरजेडी ने भी नीतीश को ‘थका हुआ नेता’ बोलकर अपने दिल की भड़ास निकाली है। आइए जानते हैं नीतीश को लेकर राजनीतिक दलों का क्या प्रतिक्रिया है। नीतीश कुमार पाला बदलने के लिए जाने जाते हैं: टीएमसी तृणमूल कांग्रेस (TMC) ने बार-बार पाला बदलने के लिए JDU के अध्यक्ष नीतीश कुमार की आलोचना की। TMC ने कहा कि लोग ऐसी अवसरवादिता का माकूल जवाब देंगे। पार्टी के सांसद सौगत रॉय ने कहा, ‘नीतीश कुमार नियमित अंतराल पर पाला बदलने के लिए जाने जाते हैं। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि उन्होंने विपक्षी गठबंधन को छोड़ने का फैसला किया है। यह गठबंधन के लिए कोई झटका नहीं है। एक अन्य TMC नेता ने नीतीश कुमार की राजनीतिक विश्वसनीयता पर चिंता व्यक्त की। उन्होंने कहा, ‘पाला बदलने के उनके इतिहास के कारण ही तृणमूल हमेशा उनकी विश्वसनीयता को लेकर आशंकित रहती थी, लेकिन कांग्रेस ने कुमार को बहुत विश्वसनीय साझेदार माना।’ बंगाल सरकार में मंत्री फिरहाद हकीम ने भरोसा जताया कि आगामी लोकसभा चुनावों में BJP को हराने में विपक्षी गठबंधन सफल होगा। उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी विपक्षी गठबंधन के रचनाकारों में से एक हैं और यह गठबंधन संसदीय चुनावों में BJP को हरा देगा। नीतीश का I.N.D.I.A से निकलना BJP के लिए नुकसान: DMKतमिलनाडु में सत्तासीन DMK ने कहा कि ‌नीतीश कुमार का I.N.D.I.A. से निकल जाना BJP के लिए नुकसानदेह और विपक्षी गठबंधन के लिए फायदेमंद है। DMK प्रवक्ता जे. कांस्टेडाइन रवींद्रन ने कहा, ‘लोग इस विश्वासघात को कभी स्वीकार नहीं करेंगे। लोग सही वक्त पर नीतीश कुमार को सबक सिखाएंगे। पार्टी के नेता टी. आर. बालू ने कहा कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि केवल हिंदी बोली जानी चाहिए और हमने I.N.D.I.A. के लिए इसे सहन किया। उधर झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) के महासचिव और प्रवक्ता सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि नीतीश कुमार का इस्तीफा अपेक्षित था, क्योंकि विश्वासघात उनका राजनीतिक चरित्र रहा है।इतिहास में महान पलटू राम के रूप में याद किया जाएगा: NCPNCP (शरद पवार गुट) ने कहा कि नीतीश कुमार को राजनीतिक इतिहास में महान पलटू राम के रूप में याद किया जाएगा। पार्टी ने BJP को नीतीश कुमार का मदारी करार दिया और कहा कि वह उसके आदेशों पर कूदना पसंद करते हैं। भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी-लेनिनवादी) के महासचिव दीपांकर भट्टाचार्य ने फेसबुक पर तीखी टिप्पणी करते हुए आरोप लगाया कि कुमार जिनका मुख्यमंत्री के रूप में सबसे लंबा कार्यकाल रहा है उन्हें RSS-‌BJP अपने मोहरे के रूप में इस्तेमाल करेंगे। I.N.D.I.A के सदस्यों को अपनाना चाहिए अखिलेश मॉडल: सपासमाजवादी पार्टी के प्रवक्ता ने कहा है कि सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने लोकसभा चुनाव में भाजपा का मुकाबला करने के लिए गठबंधन मॉडल रखा है और दूसरों को भी इसका पालन करना चाहिए। यह बयान जदयू अध्यक्ष नीतीश कुमार के बिहार के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद आया।रविवार को इस घटनाक्रम पर प्रतिक्रिया देते हुए समाजवादी पार्टी के प्रवक्ता अमीक जामेई ने कहा, ‘जो चुनाव होने जा रहे हैं वह हमारे धर्मनिरपेक्ष लोकतंत्र को बचाने के लिए हैं। हमारी पार्टी के नेता अखिलेश यादव ने कांग्रेस और आरएलडी के साथ सीट बंटवारे की घोषणा करके एक मॉडल पेश किया है। कांग्रेस के साथ दूसरे दौर की बातचीत जारी है। बीजेपी को सत्ता से हटाने के लिए सभी को इसका पालन करना चाहिए। अखिलेश यादव ने शनिवार को घोषणा की थी कि उत्तर प्रदेश में 11 मजबूत लोकसभा सीटों के साथ कांग्रेस के साथ उनकी पार्टी का गठबंधन अच्छी शुरुआत है। नीतीश रंग बदलने में गिरगिट को टक्कर दे रहे हैं: कांग्रेसकांग्रेस राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने नीतीश कुमार को देश में ‘आया राम-गया राम’ का प्रतीक बता दिया तो वहीं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने नीतीश कुमार को गिरगिट तक कहा। खरगे ने नीतीश कुमार को देश में ‘आया राम-गया राम’ का प्रतीक बताते हुए यहां तक कह दिया, ‘देश में ‘आया राम-गया राम’ जैसे कई लोग हैं। पहले वो और हम मिलकर लड़ रहे थे। जब मैंने लालू यादव और तेजस्वी यादव से बात की तो उन्होंने भी कहा कि नीतीश जा रहे हैं। अगर वह रुकना चाहते तो रुक जाते लेकिन वह जाना चाहते हैं, इसलिए ये बात हमें पहले से ही पता थी, लेकिन इंडिया गठबंधन को बरकरार रखने के लिए हमने कुछ नहीं कहा।’ वहीं जयराम रमेश ने नीतीश कुमार को गिरगिट बताते हुए एक्स पर पोस्ट कर कहा, ‘बार-बार राजनीतिक साझेदार बदलने वाले नीतीश कुमार रंग बदलने में गिरगिटों को कड़ी टक्कर दे रहे हैं। इस विश्वासघात के विशेषज्ञ और उन्हें इशारों पर नचाने वालों को बिहार की जनता माफ़ नहीं करेगी। बिलकुल साफ़ है कि भारत जोड़ो न्याय यात्रा से प्रधानमंत्री और भाजपा घबराए हुए हैं और उससे ध्यान हटाने के लिए यह राजनीतिक ड्रामा रचा गया है।’ लोकसभा चुनाव में नीतीश की JDU खत्म होने वाली है: आरजेडीRJD नेता तेजस्वी यादव ने दावा किया कि नीतीश कुमार की JDU आगामी लोकसभा चुनावों में समाप्त हो जाएगी। पूर्व उपमुख्यमंत्री ने CM नीतीश को सम्माननीय लेकिन थका हुआ नेता बताया। उन्होंने JDU के साथ सरकार बनाने के लिए BJP को चेतावनी दी। तेजस्वी ने कहा कि नीतीश कुमार को सहयोगियों के साथ काम का क्रेडिट शेयर करना पसंद नहीं है। तेजस्वी यादव ने कहा, ‘ऐसा लगता है कि नीतीश कुमार को हमारी सरकार की कई उपलब्धियों का श्रेय मुझे मिलने से है। यह BJP के लिए खतरे की घंटी होनी चाहिए। नीतीश जी एक सम्मानित नेता हैं। जब मैं विपक्ष में था तो 2020 के राज्य चुनावों के दौरान 10 लाख नौकरियों का वादा करने के लिए वह मेरा मजाक उड़ाते थे। मैंने उनसे उस दिशा में काम कराया।’ उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार पाला बदलने के लिए चाहे जो भी बहाने बनाएं, लोकसभा चुनाव में उनकी JDU खत्म होने वाली है।क्या बोले औवैसी? AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने तो इस पूरे घटनाक्रम पर बिहार के डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि मैं तो शुरू से कहता था कि नीतीश कुमार भाजपा में जाएंगे। ओवैसी ने आगे कहा कि हम तो यह पूछना चाहते हैं कि तेजस्वी यादव को इसके बाद कैसा लग रहा है? ओवैसी ने आरोप लगाया कि तेजस्वी यादव की पार्टी आरजेडी ने हमारे 4 विधायक तोड़े थे। जो खेल हमारे साथ हुआ था, अब वह आपके साथ हो गया।देर आए दुरुस्त आए: आठवलेकेंद्रीय मंत्री रामदास आठवले ने नीतीश कुमार के फैसले का स्वागत करते हुए इसे ‘देर आए दुरुस्त आए’ करार दिया। केंद्रीय सामाजिक न्याय और अधिकारिता राज्य मंत्री ने कहा कि कुमार ने NDA का हिस्सा बनने का सही समय पर सही फैसला किया। आठवले ने कहा, ‘हमने नीतीश जी से कहा था कि वह राष्ट्रीय जनता दल (राजद) प्रमुख लालू प्रसाद के साथ नहीं जाएं क्योंकि वे आपके साथ अच्छा व्यवहार नहीं करेंगे। लेकिन देर आए दुरुस्त आए… मैंने उनसे कहा था कि (नरेन्द्र) मोदी जी के साथ जुड़ जाएं… अब उन्होंने सही निर्णय लिया है, इसलिए मैं उन्हें धन्यवाद दे रहा हूं।’ केंद्रीय मंत्री ने दावा किया कि विपक्षी गठबंधन को कुमार के जाने से बड़ा झटका लगा है।