केंद्र और महाराष्ट्र सरकार ने जनता को उसके हाल पर छोड़ा, महंगाई और भ्रष्टाचार से त्रस्त हैं लोग: पटोले

कांग्रेस के नेता नाना पटोले ने शुक्रवार को कहा कि केंद्र और महाराष्ट्र सरकार ने लोगों को उनके हाल पर छोड़ दिया है, जो महंगाई, बेरोजगारी, भ्रष्टाचार और चरमराती कानून-व्यवस्था से त्रस्त हैं।महाराष्ट्र कांग्रेस प्रमुख पटोले ने संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि राज्य सरकार किसानों को लूट रही है और बीज एवं उर्वरकों की कालाबाजारी होने दे रही है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने महंगाई, बेरोजगारी, खराब कानून व्यवस्था और नीट अनियमितताओं के खिलाफ पूरे राज्य में ‘चिकल फेंको’ (कीचड़ फेंको) आंदोलन शुरू कर इन गड़बड़ियों के खिलाफ आवाज उठाई है।उन्होंने आरोप लगाया, “राज्य की बीजेपी सरकार में भ्रष्टाचार व्याप्त है। प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण (डीबीटी) योजना के माध्यम से किसानों को कीटनाशक, छिड़काव पंप, उर्वरक एवं दवाइयां दी जाती हैं। लेकिन छिड़काव पंप की कीमत 2700 रुपये से बढ़ाकर 4500 रुपये कर दी गई है और भ्रष्टाचार है क्योंकि कई चीजें बढ़ी हुई दरों पर खरीदी गई हैं।” उन्होंने दावा किया, “जब कृषि आयुक्त ने कहा कि अगर योजना में बदलाव करना है तो कैबिनेट की मंजूरी की जरूरत होगी, तो कृषि आयुक्त का तबादला कर दिया गया। इस योजना से 11 लाख से अधिक किसानों को लाभ मिलता, लेकिन बीजेपी सरकार ने किसानों की मदद के लिए कुछ नहीं किया।”उन्होंने कहा कि केंद्र और महाराष्ट्र सरकार ने लोगों को उनके हाल पर छोड़ दिया है, जो महंगाई, बेरोजगारी, भ्रष्टाचार और चरमराती कानून-व्यवस्था से त्रस्त हैं।