दिल्ली के CM से 9 घंटे तक सीबीआई ने की पूछताछ, बाहर निकलने के बाद क्या बोले केजरीवाल

नई दिल्ली: मामले में करीब 9 घंटे की पूछताछ के बाद दिल्ली के सीएम सीबीआई दफ्तर से बाहर निकले। पूछताछ के दौरान केजरीवाल की गिरफ्तारी की अटकलें तेज थीं, मगर केजरीवाल के सीबीआई दफ्तर से बाहर आते ही सारी अटकलों पर विराम लग गया। मीडिया से बातचीत करते हुए अरविंद केजरीवाल ने कहा, ‘सीबीआई ने जितने प्रश्न पूछे मैंने उसके जबाव दिए। हमारे पास कुछ छुपाने के लिए नहीं है। ये पूरा का पूरा कथित शराब घोटाला झूठ है, फर्जी है और गंदी राजनीति से प्ररित है। AAP कट्टर ईमानदार पार्टी है। हम मर-मिट जाएंगे पर कभी अपनी ईमानदारी के साथ समझौता नहीं करेंगे।’ उधर राघव चड्ढा, संजय सिंह, आतिशी, कैलाश गहलोत और सौरभ भारद्वाज सहित AAP नेता, जिन्हें आज दिन में सीबीआई कार्यालय के बाहर विरोध प्रदर्शन करते हुए हिरासत में लिया गया था उन्हें भी दिल्ली के नजफगढ़ पुलिस स्टेशन से रिहा कर दिया गया।’सीबीआई ने पूछे 56 सवाल’केजरीवाल ने सीबीआई के अधिकारियों का शुक्रिया किया। उन्होंने कहा सीबीआई के अधिकारियों ने सौहार्द और पूरी इज्जत के साथ सवाल पूछे। उन्होंने कहा ‘इस मामले में साल 2020 से लेकर अबतक जितने डिवलेपमेंट हुए हैं, उससे संबंधित 56 साल पूछे गए है, सभी का जवाब मैंने दिया।’ केजरीवाल ने केंद्र सरकार पर भी हमला बोला। उन्होंने कहा आम आदमी पार्टी के दिल्ली और पंजाब के अच्छे कामों से केंद्र सरकार घबरा गई है, इसलिए AAP को बदनाम करने की साजिश की जा रही है। सुबह 11 बजे से शुरू हुई थी पूछताछ सीबीआई ने आबकारी नीति घोटाला मामले में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से रविवार को करीब 9 घंटे तक पूछताछ की। अधिकारियों ने कहा कि आप प्रमुख केजरीवाल अपनी सरकारी काली रंग की एसयूवी में सुबह करीब 11 बजे कड़ी सुरक्षा वाले सीबीआई मुख्यालय पहुंचे। केजरीवाल करीब 9 घंटे की पूछताछ के बाद रात करीब साढ़े आठ बजे जब इमारत से बाहर निकले तो उन्होंने बाहर इंतजार कर रहे मीडियाकर्मियों की ओर हाथ हिलाया। अधिकारियों ने बताया कि मुख्यमंत्री ने दिन में भोजनावकाश लिया।26 फरवरी को सिसोदिया हुए थे गिरफ्तारआप नेता मनीष सिसोदिया को इस मामले में करीब आठ घंटे की पूछताछ के बाद 26 फरवरी को गिरफ्तार कर लिया गया था और अधिकारियों ने कहा था कि उनके जवाब संतोषजनक नहीं थे। बाद में उन्होंने दिल्ली के उपमुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया। अधिकारियों ने कहा कि एजेंसी के वरिष्ठ अधिकारी घटनाक्रम पर नजर रखने के लिए रविवार को कार्यालय में मौजूद रहे। उन्होंने कहा कि जब भी कोई वीआईपी एजेंसी में आता है तो यह सामान्य प्रक्रिया होती है। केजरीवाल को सीबीआई के समन के खिलाफ आम आदमी पार्टी ने कई इलाकों में विरोध प्रदर्शन किया और पुलिस ने पार्टी के कई शीर्ष नेताओं को हिरासत में लिया।पुलिस और आप नेताओं के बीच रही गहमा-गहमी केजरीवाल से पूछताछ के दौरान सीबीआई मुख्यालय की ओर मार्च करने से रोके जाने के बाद पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान, आप के राज्यसभा सांसद संजय सिंह और पार्टी के अन्य कार्यकर्ता एनआईए मुख्यालय के पास विरोध प्रदर्शन करने लगे। यह विरोध आम आदमी पार्टी (आप) के नेता दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के साथ अपनी एकजुटता दिखाने के लिए किया गया। केजरीवाल से पूछताछ के दौरान आप कार्यकर्ताओं के हंगामा करने की आशंका के चलते दिल्ली पुलिस ने सीबीआई मुख्यालय के बाहर धारा 144 लगा दी थी। आप कार्यकर्ता पूरी राजधानी में सड़कों पर उतरे। उन्होंने दूसरे राज्य से भी समर्थकों को बुलाया। जानकारी के मुताबिक, पंजाब और दूसरे राज्यों से आकर आप के कार्यकर्ता विरोध प्रदर्शन कर रहे थे। राजघाट, आईटीओ, सीबीआई मुख्यालय और लुटियंस जोन में रैपिड एक्शन फोर्स तैनात की गई थी। लोधी रोड स्थित सीबीआई मुख्यालय के बाहर अर्धसैनिक बलों सहित 1,000 से अधिक सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए थे।