नोएडा में घर बनाना हुआ अब और भी महंगा, जानिए अथॉरिटी ने कितने फीसदी बढ़ाया रेट

नोएडा: शहर में अब जमीन के दाम बढ़ाने का फैसला ( Hike) लिया गया है। अलग-अलग एरिया में 4 से लेकर 15 प्रतिशत तक रेट बढ़ेंगे। साथ ही जमीन अधिग्रहण के लिए मुआवजे की दर बढ़ा दी गई है। पहले जहां 3750 रुपये प्रति वर्गमीटर के रेट से जमीन अधिग्रहण किया जा रहा था, वह अब 4125 रुपये के रेट से किया जाएगा।अथॉरिटी की शुक्रवार को हुई 129वीं बोर्ड बैठक में कई अहम फैसलों पर मुहर लगी। नए चेयरमैन मनोज कुमार सिंह की अध्यक्षता में यह पहली बोर्ड बैठक थी। साथ ही अथॉरिटी के नए वित्त वर्ष का बजट भी इस बोर्ड बैठक में पास हो गया है। इसमें ग्रेनो प्राधिकरण को 4378 करोड़ रुपये का बजट खर्च करने का अप्रूवल मिल गया है।बाज़ार दर का सर्वे करने के बाद बढ़ाए दामअब ग्रेटर नोएडा में घर बनाना खासा महंगा हो गया है। जिनके घर पहले से बने हुए हैं उनके रेट भी बढ़ गए हैं। खासकर निवेश करने वालों को इस फैसले का बड़ा फायदा होने वाला है। बोर्ड बैठक में लिए गए फैसले के अनुसार औद्योगिक भूखंड, आईटी पार्क व डेटा सेंटर के भूखंड़ों की दरें 4.42 फीसदी बढ़ा दी गई हैं। आवासीय, वाणिज्यिक, ग्रुप हाउसिंग, संस्थागत की दरों में 15 फीसदी तक का इजाफा किया गया है। अथॉरिटी के अनुसार रेट रिवाइज का प्रस्ताव तैयार करने से पहले बाजार दरों का सर्वे कराया गया है, जिसमें ग्रेनो प्राधिकरण की आवंटन दरें कम पाई गईं। इस वजह से अब इन्हें बढ़ा दिया गया है। सेक्टर वाइज लिस्ट अथॉरिटी अगले कुछ दिन में जारी करेगी।4378 करोड़ इस वित्तीय वर्ष में खर्च करेगी अथॉरिटीदूसरा महत्वपूर्ण प्रस्ताव अथॉरिटी के बजट का रखा गया था। इसमें 4378 करोड़ का बजट पास हो गया है। इसमें जमीन अधिग्रहण पर करीब 1000 करोड़ व विकास कार्यों पर 1244 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। जेवर एयरपोर्ट के लिए 450 करोड़ रुपये का बजट ग्रेनो अथॉरिटी देगी और गांवों के विकास पर 287 करोड़ रुपये खर्च करेगी। बताया जा रहा है कि इसमें ग्रेटर नोएडा की दो प्रमुख सड़कों के विकास के लिए 40 करोड़ रुपये का बजट निर्धारित किया गया है। हिंडन ब्रिज के निर्माण के लिए 30 करोड़, सेक्टरों में सामुदायिक केंद्रों को विकसित करने पर 20 करोड़ रुपये का बजट मिला है। ग्रेटर नोएडा में नए बिजलीघरों के लिए 500 करोड़ रुपये मिले हैं। ग्रेनो में शहरी एरिया के रखरखाव पर लगभग 704 करोड़ रुपये का बजट रखा गया हैबकायेदारों के प्लॉट आवंटन किए जाएंगे निरस्तजो भी प्लॉट आवंटी बकाया धनराशि नहीं दे रहे हैं, उनका आवंटन निरस्त किया जाएगा। वे चाहे बिल्डर, उद्यमी या फिर अन्य कोई आवंटी हों। बैठक में निर्णय लिया गया है कि प्रॉपर्टी से जुड़े सभी विभागों के टॉप 50 आवंटियों को चिह्नित किया गया है। उन्हें नोटिस जारी कर आवंटन निरस्त करने की कार्रवाई की जाएगी। कुछ पर कार्रवाई शुरू कर दी गई है।किसानों को मिली राहतग्रेनो अथॉरिटी एरिया में अब जमीनों का जो भी अधिग्रहण किया जाएगा वह 4125 रुपये प्रति वर्गमीटर की दर से किया जाएगा जो कि अभी 3750 की दर से किया जा रहा था। इसमें सीधे 375 रुपये बढ़ा दिए गए हैं। इससे किसानों को राहत मिली है और उम्मीद की जा रही है किसान आंदोलन भी इससे कंट्रोल होगा।अस्तौली में बनेगा बायो सीएनजी व चारकोल प्लांटप्राधिकरण की बोर्ड बैठक में नोएडा-ग्रेनो के संयुक्त प्रॉजेक्ट पर मुहर लगाई गई है। इसके तहत अस्तौली में 1100 टन क्षमता का चारकोल प्लॉट लगाने का फैसला लिया गया है। इसे एनटीपीसी लगाएगा। नोएडा-ग्रेनो के कूड़े को निस्तारित करने के लिए एनटीपीसी का संयुक्त चारकोल प्लांट लखनावली के बजाय अस्तौली लैंडफिल साइट पर बनेगा। इसके लिए नोएडा प्राधिकरण ने ग्रेनो प्राधिकरण से 30 एकड़ जमीन लगभग 64 करोड़ रुपये की कीमत पर 99 साल की लीज पर ली है। चारकोल का इस्तेमाल एनटीपीसी खुद से बिजली उत्पादन में करेगा। इसके साथ ही बायो सीएनजी भी प्लांट भी अस्तौली लैंडफिल साइट पर ही बनेगा।