बंगाल में चुनाव बाद हुई हिंसा के पीड़ितों से मिलने पहुंची बीजेपी की फैक्ट फाइडिंग टीम, ममता पर बोला हमला

कोलकाता: बंगाल में चुनाव के बाद हो रही हिंसा की जांच करने पहुंची सांसदों की टीम मंगलवार को डायमंड हार्बर के अल्ताबेरिया गांव में धरने पर बैठ गई। इस टीम में बीजेपी सांसद , त्रिपुरा के पूर्व मुख्यमंत्री बिप्लब देब और राज्यसभा सांसद बृजलाल शामिल हैं। बीजेपी की फैक्ट फाइडिंग टीम राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा के निर्देश पर बंगाल में हिंसा प्रभावित लोगों से बातचीत कर रही है। बीजेपी फैक्ट फाइडिंग टीम के साथ बीजेपी विधायक अग्निमित्रा पॉल भी दक्षिण 24 परगना में चुनाव के बाद हुई हिंसा के पीड़ितों से मुलाकात की और उनकी शिकायतें सुनीं।टीएमसी के आतंक के कारण भाग गए लोगबीजेपी के राज्यसभा सांसद बृजलाल ने एक्स पर ट्वीट किया है कि पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा की ओर से गठित कमेटी अल्ताबेरिया गांव आई है। दलित बाहुल्य इस गांव के लोग टीएमसी के आतंक के कारण भाग गए है। उन्होंने आरोप लगाया है कि ग्रामीणों का सामान और मवेशी भी टीएमसी के कार्यकर्ताओं ने लूट लिया। ऐसा हिंसा का तांडव हमने नहीं देखा, जैसा बंगाल में हो रहा है।बीजेपी का समर्थन करने वाली महिलाओं पर अत्याचारइस बीच बीजेपी आईटी सेल के प्रमुख और पश्चिम बंगाल प्रभारी अमित मालवीय ने ट्वीट किया है, जिसमें उन्होंने ममता बनर्जी पर बीजेपी का समर्थन करने वाली महिलाओं पर रेप का आरोप लगाया है। उन्होंने एक वीडियो शेयर करते हुए लिखा है कि बीजेपी की फैक्ट फाइडिंग टीम जब कूच बिहार में हिंसा पीड़ितों से मिली तो सच सामने आया। उन्होंने आरोप लगाया है कि सीताई विधानसभा में अंचल प्रधान ने एक महिला से रेप किया, क्योंकि उसने बीजेपी के लिए चुनाव में काम किया था। ममता पर साधा निशानामालवीय ने कहा कि ममता बनर्जी ने रेप को राजनीतिक हिंसा के एक साधन के रूप में वैध बना दिया है। शेख शाहजहां टीएमसी में एकमात्र राक्षस नहीं है।