आजम की सीट से विधायक बने बीजेपी के आकाश सक्सेना को नोटिस, क्या जाएगी सदस्यता?

रामपुर: उत्तर प्रदेश के रामपुर में समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता (Azam Khan) को हेट स्पीच के पुराने मामले में सजा मिलने के बाद उनकी विधायकी रद्द हो गई थी। एमपी-एमएलए कोर्ट ने उन्हें इस मामले में बरी कर दिया है। उपचुनाव में भारतीय जनता पार्टी के आकाश सक्सेना (Akash Saxena) ने सपा प्रत्याशी को हराकर जीत दर्ज की थी। अब MLA आकाश को भी हाई कोर्ट की तरफ से नोटिस जारी हुआ है। ऐसे में उनकी विधानसभा सदस्यता पर खतरा मंडराने लगा है। रामपुर विधानसभा के उपचुनाव में भाजपा की तरफ से मैदान में उतरे आकाश सक्सेना ने आजम के करीबी सपा प्रत्याशी आसिम रजा को 33 हजार वोट के अंतर से हराकर चुनाव जीता था। हालांकि चुनाव के फौरन बाद आसिम रजा हाई कोर्ट चले गए थे। उन्होंने आकाश सक्सेना पर चुनाव में धांधली करने का आरोप लगाया था। उसी मामले में अब हाई कोर्ट की तरफ से आकाश को नोटिस जारी किया है। रामपुर में आजम का किला ढहाने के बाद आकाश के खिलाफ हाई कोर्ट गए आसिम रजा ने आरोप लगाया था कि चुनाव में धांधली हुई है। उन्होंने कहा कि एक वर्ग विशेष के वोटरों को मतदान से रोकने के लिए भाजपा प्रत्याशी की तरफ से कई सारे हथकंडे अपनाए गए। उन्होंने यहां आकाश सक्सेना के निर्वाचन को रद्द किए जाने और नए सिरे से चुनाव कराए जाने की अपील की। अब जारी नोटिस के तहत आकाश सक्सेना को अगस्त महीने के पहले हफ्ते तक अपना जवाब दाखिल करना होगा।