भारत पर जहर उगल रहे बिलावल भूल गए नाना जुल्फिकार का हश्र, सोशल मीडिया पर यूजर्स ने दिखाया आईना

नई दिल्ली : 16 दिसंबर को देश में विजय दिवस के रूप में मनाया जा रहा है। वहीं, पड़ोसी देश पाकिस्तान के विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो ने भारत के पीएम को लेकर विवादित टिप्पणी की। बिलावल की टिप्पणी के बाद सोशल मीडिया पर लोग पाकिस्तान की लानत-मलामत करने में जुट गए। सोशल मीडिया पर ट्विटर यूजर्स ने बिलावल के नाना का यूएन में दिए गए भाषण का वीडियो शेयर कर सबक लेने की बात कही। यूजर्स ने कहा कि भारत के खिलाफ जहर उगल रहे हो क्या अपने नाना का हश्र भूल गए। वहीं, कुमार विश्वास ने भी ट्वीट कर बिलावल पर तंज कसा।

पाकिस्तान को झेलनी पड़ी थी शर्मिंदगीपाकिस्तान को आज से 51 साल पहले संयुक्त राष्ट्र में शर्मिंदगी झेलनी पड़ी थी। बिलावल के नाना और पाकिस्तान के मौजूदा विदेश मंत्री जुल्फिकार अली भुट्टो ने संयुक्त राष्ट्र में भाषण के दौरान संयुक्त राष्ट्र का प्रस्ताव फाड़ दिया था। पाकिस्तान ने भारत की जीत के बाद बौखलाहट में संयुक्त राष्ट्र को खूब खरी-खोटी सुनाई थी। इससे पाकिस्तान की अंतराष्ट्रीय मंच पर खूब बेइज्जती हुई थी। 15 दिसंबर 1971 को जुल्फिकार ने संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान के साथ पक्षपात का आरोप लगाया था। इसके बाद उन्होंने प्रस्ताव के पन्ने फाड़ दिए और तिलमिला कर अपनी टीम के साथ उठ कर चले गए थे।

नाना और मां के सबक से चैन नहीं पड़ा
कुमार विश्वास ने ट्वीट में कहा, नाना और मां के सबक से चैन नहीं पड़ा चम्पक ? क्यूं ख़ामख़ा भरी जवानी में घरवालों से मिलने जाना चाह रहा है बच्चे। दरअसल, बिलावल भुट्टो के नाना जुल्फिकार अली भुट्टो को पाकिस्तानी सैन्य शासन काल में साल 1979 में फांसी पर लटका दिया था। वहीं, मां बेनजरी भुट्टो की साल 2007 में रावलपिंडी में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। एक यूजर @SheikhMujib16 ने लिखा कि जुल्फिकार और बिलावल दोनों बड़ी-बड़ी बातें करते हैं लेकिन उनका रिजल्ट जीरो है। बिलावल के खानदान को बैन करना चाहिए।

बिलावल ने भारत के बारे में क्या कहा
बिलावल भुट्टो ने न्यूयॉर्क में प्रेस मीट के दौरान भारत के पीएम नरेंद्र मोदी को ‘गुजरात का कसाई’ बताया। बिलावल भुट्टो ने कहा कि ओसामा बिन लादेन मर गया है, लेकिन गुजरात का कसाई नरेंद्र मोदी अभी भी जिंदा है। पाकिस्तानी विदेश मंत्री ने कहा कि भारत सरकार गांधी की विचारधारा में नहीं बल्कि उनके हत्यारों की विचारधारा में विश्वास करती है। बिलावल ने कहा कि भारत हिटलर की विचारधारा से प्रभावित है। बिलावल ने भारत पर ब्लूचिस्तान में आतंकवाद फैलाने का भी बेबुनियाद आरोप लगाया। दरअसल, बिलावल का यह बयान हाल ही में विदेश मंत्री एस. जयशंकर की तरफ से पाकिस्तान को आतंकवाद के मुद्दे पर घेरने को लेकर आया था। जयशंकर ने पाकिस्तान को आतंकवाद और ओसामा बिन लादेन को पनाह देने के मुद्दे पर घेरा था।

अंतरराष्ट्रीय संबंधों की मर्यादा को लांघा
बीजेपी ने कहा कि ऐसा बयान देकर भुट्टो ने न केवल सार्वजनिक जीवन की मर्यादा को तार-तार किया है, बल्कि अंतर्राष्ट्रीय संबंधों की हर मर्यादा को भी लांघ दिया है। पार्टी ने कहा कि क्या बिलावल भुट्टो की इतनी हैसियत है कि वह हमारे प्रधानमंत्री के खिलाफ इस तरह की टिप्पणी करे! बिलावल भुट्टो की गिरी हुई इस हरकत ने विश्व पटल पर पाकिस्तान की कलंक गाथा में एक नया अध्याय जोड़ दिया है। इससे पहले, केंद्रीय मंत्रियों अनुराग ठाकुर और मीनाक्षी लेखी समेत भाजपा नेताओं ने भी भुट्टो की आलोचना करते हुए कहा कि पड़ोसी देश के विदेश मंत्री ‘नैतिक, बौद्धिक और आर्थिक रूप से दिवालिया’’ देश का प्रतिनिधित्व करते हैं। आतंकवाद को समर्थन देने के कारण, उसकी (पाकिस्तान की) कोई विश्वसनीयता नहीं है।