Bihar में भाजपा के लिए बड़ी खुशखबरी, विधान परिषद में बनी सबसे बड़ी पार्टी, 75 सदस्यीय सदन में अब 24 MLC

बिहार विधान परिषद में भाजपा सबसे बड़ी पार्टी बन गई है। हाल में ही 5 सीटों पर हुए चुनाव में भाजपा ने 2 सीटों पर जीत हासिल की थी। इसके बाद 75 सदस्य इस सदन में भाजपा के पास 24 सीटें हो गई है। वहीं, जदयू को नुकसान हुआ है। जदयू की सीट 24 से घटकर 23 हो गई है। 5 सीटों में से भाजपा ने कहा अपनी एक सीट बचाई तो वहीं एक और सीट पर जीत हासिल की। भाजपा ने गया शिक्षक और स्नातक निर्वाचन क्षेत्र दोनों में 2 सीटें जीती। वहीं, 2 सीटों पर महागठबंधन विजयी रहा। महागठबंधन ने कोसी और सारण स्नातक क्षेत्र में जीत हासिल की। वहीं, सारण शिक्षक सीट पर निर्दलीय प्रत्याशी विजयी रहे।  इसे भी पढ़ें: Manish Kashyap पर लगा NSA तो भड़गे भाजपा विधायक, कहा- वाह नीतीश जी, लश्कर वाली इशरत…बिहार में नेता प्रतिपक्ष विजय कुमार सिन्हा ने ट्वीट किया कि देश के यशस्वी प्रधानमंत्री मा. श्री नरेंद्र मोदी जी एवं हमारे यशस्वी राष्ट्रीय अध्यक्ष मा. जेपी नड्डा जी के नेतृत्व में भाजपा बिहार विधान परिषद में सबसे बड़े दल के रूप में उभरी हैं, सभी कार्यकर्ता बंधुओं को हार्दिक बधाई। भाजपा को विधान परिषद् में सबसे बड़ा दल बनाने के लिए समस्त शिक्षक एवं स्नातक निर्वाचन क्षेत्र के मतदाताओं को कोटि कोटि आभार। बिहार बिजेपी ने ट्वीट कर कहा कि प्रदेश अध्यक्ष सम्राट चौधरी के नेतृत्व में जदयू को पछाड़कर भारतीय जनता पार्टी बिहार विधान परिषद में सबसे बड़ी पार्टी बन गई है। बिहार की महान जनता और भाजपा के देवतुल्य कार्यकर्तागण को बहुत-बहुत बधाई और आभार! इसे भी पढ़ें: Shah के बयान पर Tejashwi का कटाक्ष- लोगों को सीधा करता है बिहारवहीं, राजनीतिक रणनीतिकार से राजनेजा बने प्रशांत किशोर ने बृहस्पतिवार को उस वक्त खुश से फूले नहीं समाए जब उनके समर्थन वाले एक उम्मीदवार ने बिहार में सत्तारूढ़ महागठबंधन से विधान परिषद की एक सीट जीत ली जबकि भाजपा को उच्च सदन में सबसे बड़ी पार्टी बनने की खुशी है। फिलहाल अपने ‘जन सुराज अभियान’ के तहत एक राज्यव्यापी पदयात्रा कर रहे किशोर द्वारा भविष्य में राजनीतिक संगठन बनाने की उम्मीद है। अपने जन सुराज अभियान के तहत सारण जिले का दौरा कर रहे किशोर ने 59 वर्षीय अहमद की जीत की सराहना करते हुए कहा, ‘‘सारण शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र के मतदाता राजद के गढ़ सारण, सीवान और गोपालगंज जैसे जिलों से आते हैं। इसके अलावा भाजपा का गढ़ चंपारण भी है।’’