मुंबई में लगने जा रहा Bageshwar Baba का दरबार, धीरेंद्र शास्त्री बोले- जय शिवाजी,जय महाराष्ट्र

मध्य प्रदेश: बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर धीरेंद्र शास्त्री अपने बयानों को लेकर अक्सर सुर्खियों में बने रहते हैं. वहीं, अब बताया जा रहा है कि बाबा बागेश्वर का दिव्य दरबार मुंबई में सजने वाला है.दरअसल, बागेश्वर धाम के ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर इसकी जानकारी दी गई है, जिसमें कहा गया है कि परमपूज्य सरकार महाराष्ट्र के ह्रदयस्थली मुंबई पधार रहे है. सनातन चेतना और हिंदूराष्ट्र के संकल्प के संगपूज्य सरकार का दिव्य दरबार दिनाक 18-03-2023 शाम 4 बजे से रहेगी.

इसके साथ ही बाबा बागेश्वर के दिव्य दर्शन और सनातन चर्चा 19-03-2023 शाम 4 बजे तक रहेगी. जिसमें सभी लोग इस भव्य दिव्य कार्यक्रम में सादर आमंत्रित है. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, धीरेंद्र शास्त्री पिछले कुछ समय से सुर्खियां बने हुए हैं. जहां नागपुर में अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति के पदाधिकारियों से चमत्कारों को लेकर हुए विवादों के बाद घिर गए थे. इसके साथ ही धीरेंद्र शास्त्री कुछ लोगों का धर्मांतरण कर चर्चा में आए थे.
मुंबई में सजने वाला है बाबा बागेश्वर धाम

जय शिवाजीजय महाराष्ट्र.
परमपूज्य सरकार महाराष्ट्र के ह्रदयस्थली मुंबईपधार रहे हैसनातन चेतना और हिंदूराष्ट्र के संकल्प के संगपूज्य सरकार का दिव्य दरबार दिनाक 18-03-2023 शाम 4 बजे से.और दिव्य दर्शन और सनातन चर्चा 19-03-2023 शाम 4 बजे सेआप सभी सादर आमंत्रित है इस https://t.co/rqE83mSshz pic.twitter.com/GVw5lqtab2
— Bageshwar Dham Sarkar (Official) (@bageshwardham) March 14, 2023

ये भी पढ़ें: अगर छोटे कपड़े पहनने से मॉर्डन होते हैं तो हमारी भैंसिया ज्यादा मॉर्डन- बागेश्वर बाबा
कौन हैं पीठाधीश्वर धीरेंद्र शास्त्री ?
जानकारी के अनुसार, पंडित धीरेंद्र शास्त्री बागेश्वर धाम में अपना दरबार लगाते हैं. इस दौरान वे लोगों को भूत प्रेत के इलाज का दावा करते हैं. इसके बाद कार्यक्रमों में लोगों के द्वारा सवाल पूछने पर उनका पर्चा बनाते हैं. उनका दावा है कि वे कोई चमत्कार नहीं करते है, बल्कि, बालाजी धाम के आशीर्वाद से सबके मन की बात जान लेते हैं. इसके साथ ही वे भक्तों की समस्याओं का समाधान करते हैं.
नागपुर विवाद के बाद कथा छोड़कर चले गए थे धीरेंद्र शास्त्री
बता दें कि, नागपुर में लगने वाले दरबार पर अंधश्रद्धा उन्मूलन समिति के अध्यक्ष श्याम मानव ने आपत्ति जताई थी. जहां उन्होंने कहा था कि दरबार की आड़ में धीरेंद्र शास्त्री जादू-टोना को बढ़ावा देते हैं. जिसमें वे भगवान के नाम पर लोगों को लूटने और धोखाधड़ी का काम करते हैं.

वहीं, समिति का कहना था कि उनकी ओर से धीरेंद्र शास्त्री को 30 लाख रुपए का चैलेंज दिया गया था. जिसमें कहा गया था कि वे दिव्य चमत्कारी दरबार लगाए और अंधश्रद्धा उन्मूलन समिति के अध्यक्ष श्याम मानव का सच बताएं. यदि वो उनके बारे में सच-सच बता देते हैं, तो वो उसे गिफ्ट के तौर पर 30 लाख रुपए देंगे. मगर, धीरेंद्र शास्त्री ने चैलेंज स्वीकार नहीं किया. साथ ही वे दो दिन पहले ही दरबार लगाए बिना ही नागपुर से वापस चले गए थे.

ये भी पढ़ें: जैसे गुजरात में शेर की मांद में घुसकर ललकारा, वैसे ही मध्य प्रदेश की सभी सीटों पर लड़ेगी AAP: केजरीवाल