Jammu-Kashmir: अस्तित्व के लिए हांफ रहा शिल्प उद्योग, बचाने की कोशिस में जुटे असलम भट

कश्मीरी तांबे के बर्तन शिल्प उद्योग अस्तित्व के लिए हांफ रहा है। ऐसा इसलिए है क्योंकि मशीन से बने तांबे के बर्तनों ने बाजारों पर कब्जा कर लिया है। शिल्प से जुड़े कारीगर इस कला को जीवित रखने की कोशिश कर रहे हैं और ऐसे ही एक कारीगर – मोहम्मद असलम भट – ने उद्योग को एक नया आकार देने का बीड़ा उठाया है ताकि यह हमेशा के लिए जीवित रहे। नए डिजाइनों, तकनीकों और अनूठे उत्पादों की शुरूआत के साथ, भट्ट कश्मीर घाटी में तांबे के बर्तनों के शिल्प को पुनर्जीवित करने की कोशिश कर रहे हैं। उन्हें हाल ही में शिल्प में उनके अद्वितीय विचारों और नवाचार के लिए राज्य सरकार द्वारा सम्मानित किया गया था।भट्ट ने कहा कि यह कला कभी ख़त्म नहीं होनी चाहिए और हमें इस कला को बचाने के लिए काम करते रहना चाहिए। उन्होंने बताया कि यह एक शिल्पकला है जो सदियों से चली आ रही है और तांबे के बर्तन उनका पारिवारिक व्यवसाय है। तांबे के बर्तन कश्मीर के हर घर में अवश्य होने चाहिए। पहले, केवल तांबे से बने पारंपरिक बर्तन ही कश्मीरी घरों में उपयोग किए जाते थे, लेकिन अब यह सजावटी वस्तुएं भी हैं – फूलदान से लेकर लैंप शेड, फोन होल्डर से लेकर झुमके तक – जिन्हें कश्मीरी घरों में जगह मिल गई है।