विधानसभा चुनाव: BJP निकालेगी ‘गुजरात गौरव यात्रा’, 12 अक्टूबर को अमित शाह करेंगे शुभारंभ

गुजरात चुनाव में आम आदमी पार्टी को मिलती बढ़त की काट अब बीजेपी ने ढूंढ ली है. पार्टी ने अपने नाराज मतदाताओं तक पहुंच बनाने के लिए अब गुजरात गौरव यात्रा निकालने का ऐलान किया है. यह यात्रा 12 अक्टूबर से शुरू होगी और राज्य के सभी विधानसभा क्षेत्रों तक पहुंचेगी. संभावना है कि इस यात्रा का शुभारंभ खुद केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह करें. उनकी अनुपस्थिति में पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा भी इस यात्रा को हरी झंडी दिखाकर रवाना कर सकते हैं. हालांकि पार्टी पदाधिकारियों ने इस यात्रा के लिए दोनों शीर्ष नेताओं से आग्रह किया है.
पार्टी पदाधिकारियों के मुताबिक चुनाव प्रचार में तेजी लाने के उद्देश्य से गुजरात गौरव यात्रा शुरू हो रही है. इसका मुख्य मकसद सभी विधानसभा क्षेत्रों में घूम कर मतदाताओं को पार्टी की रीति नीति से अवगत कराना है. इस दौरान नाराज मतदाताओं को रिझाने के लिए भी पार्टी अपने स्तर पर पूरा प्रयास करेगी. यह यात्रा राज्य के सभी 182 विधानसभा क्षेत्रों में जाएगी. इसके लिए राज्य में कुल पांच रुट निर्धारित किए गए हैं. प्रत्येक रूट पर यह यात्रा सात से दस दिन तक रह सकती है. इस यात्रा में संबंधित विधान सभा क्षेत्र के पार्टी कार्यकर्ता तो रहेंगे ही, प्रयास किया जाएगा कि अधिक से अधिक मतदाताओं को भी इस यात्रा में शामिल किया जाए.
मतदाताओं तक पहुंच के लिए यात्रा का आयोजन
पार्टी के राज्य मुख्यालय से मिली जानकारी के मुताबिक कई विधान सभा क्षेत्रों में पार्टी के नेताओं का मतदाताओं से संपर्क कटा हुआ है. इस यात्रा का उद्देश्य दोबारा से संपर्क बनाने के साथ आम आदमी के बीच भरोसा कायम करना है. लोगों को एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह पर भरोसा करने के लिए प्रेरित किया जाएगा. इसी के साथ पार्टी की योजना हर हाल में इस बार भी ना केवल सरकार बनाना होगा, बल्कि भारी बहुमत हासिल कर आम आदमी पार्टी को बेदखल करना भी होगा.
जनजातीय क्षेत्रों पर रहेगा फोकस
पार्टी सूत्रों के मुताबिक गुजरात गौरव यात्रा का मुख्य फोकस जनजातीय क्षेत्र हैं. जहां से मतदाताओं की नाराजगी की भी खबरें आ रही हैं. इस समय राज्य में कुल 27 सीटें जनजाति के उम्मीदवारों के लिए आरक्षित हैं. पार्टी का प्रयास इन सभी 27 सीटों में से अधिकतम सीट हासिल करना है, जो मौजूदा स्थिति को देखते हुए एक बड़ी चुनौती है. बता दें कि पार्टी द्वारा इस यात्रा के निर्धारित पांच रूटों में से एक रूट केवल जनजातीय क्षेत्र के लिए हैं. यह रूट दक्षिण गुजरात में नवसारी जिले के उनई से शुरू होकर उत्तर गुजरात के बनासकांठा में अंबाजी तक जाएगी.
अन्य रूटों में भी जनजातीय क्षेत्रों पर विशेष नजर
पार्टी पदाधिकारियों के मुताबिक यात्रा के अन्य रूटों में कई जनजाति बाहुल्य इलाके हैं. इन सभी इलाकों में यात्रा के पहुंचने पर पार्टी का मुख्य फोकस एक एक मतदाता तक पहुंच बनाना होगा. जैसे कि खेड़ा जिले में में उनई से फेगवेल वाला रूट आधा से अधिक जनजातीय क्षेत्र से होकर गुजरेगा. दावा किया जा रहा है कि इस बार बीजेपी कांग्रेस का रिकार्ड तोड़ेगी. गुजरात विधान सभा चुनाव में इन्हीं सीटों से बढ़त हासिल कर कांग्रेस ने एक बार 149 सीटें जीत चुकी है.
पहले भी यात्रा निकाल चुकी है बीजेपी
बीजेपी के लिए यह कोई पहली यात्रा नहीं है. बल्कि इससे पहले वर्ष 2002 में पार्टी ने गुजरात गौरव यात्रा निकाला था. उस समय गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी थे. यह यात्रा 11 सप्ताह तक चली थी. इसका पार्टी को बहुत बढ़िया लाभ भी मिला था.