एलियन अटैक, परमाणु हमला, लैब बेबी… बाबा वेंगा ने 2023 के लिए की हैं डरावनी भविष्यवाणियां

पेरिस: बुल्गारिया की के 2023 के लिए की गई भविष्यवाणियों ने लोगों को डरा दिया है। बाबा वेंगा को मानने वाले दावा करते हैं कि उनकी की गई भविष्यवाणियां सही होती हैं। कहा जाता है कि बाबा वेंगा ने अमेरिका में हुए 9/11 के हमलों और कुर्स्क पनडुब्बी त्रासदी सहित हाल के इतिहास की कुछ सबसे भयानक घटनाओं की सटीक भविष्यवाणी की थी। इस नेत्रहीन भविष्यवक्ता ने अपने निधन की भी सटीक तारीख भी बताई थी। अब उनकी मौत के 26 साल बाद 2023 के लिए सामने आई हैं, जो लोगों को डराने के लिए काफी है। बाबा वेंगा का असली नाम वांगेलिया पांडेवा गुशतरोवा था।

2023 में बाबा वेंगा की भविष्यवाणियां क्या हैं

बाबा वेंगा ने 2023 में एक अंधकारमय और त्रासदी वाले माहौल की भविष्यवाणी की है। उनकी भयानक भविष्यवाणियों में पृथ्वी की कक्षा में बदलाव भी शामिल हैं, जो परमाणु हमले के कारण हो सकता है। 2023 के लिए बाबा वेंगा की भविष्यवाणियों में कुछ अजीबोगरीब वैज्ञानिक अविष्कार भी शामिल हैं, जिनमें एक लैब बेबी का जन्म होने का भी जिक्र है। इसके अलावा आंखों से अंधी इस भविष्यवक्ता ने 2023 में भयानक युद्ध और सौर सुनामी आने की भी आशंका जताई है।

माता-पिता तय कर सकते हैं बच्चे की त्वचा का रंग

रिपोर्ट्स के मुताबिक, उनकी भविष्यवाणियों में यह भी शामिल है कि माता-पिता लैब में बनने वाले बच्चों के त्वचा का रंग और अन्य शारीरिक विशेषताओं को तय करने में सक्षम होंगे। अगर यह सच निकला तो इंसानों द्वारा बच्चे पैदा करने का पारंपरिक तरीका पूरी तरह से खत्म हो सकता है। 1993 में बाबा वेंगा ने भविष्यवाणी करते हुए कहा था कि यूएसएसआर (सोवियत संघ) 21वीं सदी की पहली तिमाही में फिर से उठेगा। रूस-यूक्रेन युद्ध को उनकी भविष्यवाणी से जोड़कर देखा जा रहा है, जब रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन पूर्व सोवियत देश यूक्रेन के इलाकों को हड़पने की कोशिश कर रहे हैं।

कौन थी बाबा वेंगा

बाबा वेंगा का पूरा नाम वांगेलिया पांडेवा गुशतरोवा था। उनका जन्म 3 अक्टूबर 1911 को हुआ था। बाबा वेंगा बचपन से ही नेत्रहीन थीं। बाबा वेंगा ने अपना अधिकांश जीवन बुल्गारिया में कोझुह पहाड़ों के रूपाइट क्षेत्र में बिताया। 1970 और 1980 के दशक के दौरान वे अपनी भविष्यवाणियों को लेकर पूरे यूरोप में प्रसिद्ध हो गई थीं। जेनी कोस्टाडिनोवा ने 1997 में दावा किया था कि लाखों लोगों का मानना है कि उनमें असाधारण क्षमताएं हैं।