साथ देने की सजा? उद्धव के करीबी शिवसेना नेता को ACB ने भेजा नोटिस, 8 दिनों में मांगा जवाब

साथ देने की सजा मिली है क्या? राजनीतिक गलियारों में यह चर्चा तो होकर रहेगी. उद्धव ठाकरे के करीबी और कोंकण के कुडाल से शिवसेना के विधायक को एंटी करप्शन ब्यूरो (एसीबी) ने नोटिस भेजा है. जवाब देने के लिए 8 दिनों का समय दिया गया है. इस तरह आर्थिक लेन-देन के केस में शिवसेना का एक और नेता मुश्किल में फंसते हुए नजर आ रहे हैं. वैभव नाइक कोंकण के सिंधुदुर्ग जिले में शिवसेना के ठाकरे गुट के आंख, कान और नाक समझे जाते हैं. उनसे एसीबी ने शुक्रवार को पूछताछ की.
वैभव नाइक से पूछताछ के बाद एसीबी ने उन्हें अपने 20 साल के आर्थिक व्यवहार का हिसाब मांगा है और इसके लिए उन्हें 8 दिनों का समय दिया है. कोंकण के कुडाल मालवण क्षेत्र के विधायक नाइक को रत्नागिरी में लाया गया और उनसे पूछताछ की गई. यह पूछताछ मुख्य तौर से 2002 से 2022 तक के आर्थिक व्यवहार के संबंध में की गई.
जो रहेंगे उद्धव के साथ, उनके खिलाफ होकर रहेगी जांच?
महाराष्ट्र की राजनीति में 20 जून से एक नई सरकार का गठन हुआ. एकनाथ शिंदे ने शिवसेना के 55 विधायकों में से 40 विधायकों को अपने साथ कर लिया और बीजेपी के साथ मिलकर सरकार बना ली. इसके अलावा शिंदे शिवसेना के 18 सांसदों में से 12 को अपने साथ कर चुके हैं.ठाकरे गुट में रह गए 15 विधायकों में से एक हैं वैभव नाइक, जिनकी शुक्ववार को रत्नागिरी एसीबी द्वारा जांच और पूछताछ की गई. शिवसेना नेता संजय राउत पर कार्रवाई के बाद अब वैभव नाइक के साथ की गई इस पूछताछ को राजनीतिक गलियारे में उद्धव गुट पर जांच का दबाव बढ़ाने के तौर पर देखा जा रहा है.
‘जांच चाहे वो कितनी भी करवाएंगे, उद्धव का साथ नहीं छुड़वा पाएंगे’
उद्धव ठाकरे के करीबी वैभव नाइक को शुक्रवार को रत्नागिरी के कणकवली में लाया गया. यहां सर्किट हाउस में बुलाकर उनसे पूछताछ की गई. शिवसेना विधायक वैभव नाइक का कहना है कि कितनी भी कड़ी पूछताछ से होकर गुजरना हो, इसके लिए वे तैयार हैं. वैभव नाइक ने कहा कि उन्होंने आज तक कोई भी घोटाला नहीं किया है. उन्होंने यह भी कहा कि चाहे जितनी पूछताछ की जाए, कैसी भी जांच की जाए, वे उद्धव ठाकरे का साथ नहीं छोड़ेगा. अगर यह जांच राजनीतिक मकसद से की जा रही है, तब भी उसका जवाब पूरी ताकत से दिय जाएगा.