अजूबा इंसान! शरीर से दौड़ता है इतना करंट, चिकन भी पक जाता है

नई दिल्ली: उनके शरीर में बिजली दौड़ती है। बिजली का नंगा तार पकड़कर 220 वोल्ट के करंट से वह बड़े आराम से चिकन फ्राई करते हैं। तार को जीभ से छूते हैं और बल्ब जल उठता है। शरीर में बिजली दौड़ाकर वह ड्रिल मशीन चला देते हैं, मिक्सर घरघराने लगता है… साधारण से कद काठी वाला यह शख्स भारत का इलेक्ट्रिक मैन है। केरल के कोल्लम में रहने वाले इस अजूबे इंसान का नाम राजमोहन नायर है। ये बिजली के तारों को पकड़कर अपने शरीर को टेस्टर से चेक करते हैं। आपको जानकर आश्चर्य होगा कि टेस्टर में बत्ती जल उठती है। वह बड़े से बड़ा बिजली का झटका झेल जाते हैं। हालांकि जब वह तीसरी कक्षा में थे, जिंदगी ने उन्हें सबसे बड़ा झटका दिया था। दर्द इतना हुआ कि उन्होंने खुदकुशी करने की ठान ली। दरअसल, वह अपनी मां के निधन से टूट गए थे। आगे की पढ़ाई के लिए पैसे नहीं थे। माता-पिता का साया छूटा तो जीवन में अंधेरा दिखने लगा। टीचर ने कहा कि तुम पढ़ नहीं सकते। वह जीवन लीला समाप्त करने चल पड़े।

राजमोहन ने ट्रांसफॉर्मर के नंगे तारों को पकड़ लिया लेकिन उन्हें करंट महसूस ही नहीं हुआ। पूरी दुनिया जानती है कि इंसान के शरीर से बिजली दौड़ सकती है और जल्द ही वह शख्स दम तोड़ देगा। लेकिन राजमोहन सबसे अलग थे। उन्हें जल्द ही महसूस हो गया कि बिजली के नंगे तार छूने से उन्हें कुछ नहीं हुआ। उनके मन में जीने की नई उम्मीद जगी। वह अपने इस गुण को ईश्वर का वरदान मानते हैं। उत्सुकता बढ़ी और राजमोहन खुद पर टेस्ट करने लगे। वह बिजली के नंगे तारों को पकड़ लेते और जीवन-मौत का खतरनाक खेल खेलने लगे।

केरल में इस इलेक्ट्रिक मैन की प्रसिद्धि बढ़ने लगी। वह स्टेज पर अपना करतब दिखाने लगे। अनाथ होने के कारण लोग उनकी मदद करने के लिए भी आगे आए। कुछ लोगों ने फायदा उठाने की भी कोशिश की।

राजमोहन ने एक इंटरव्यू में बताया था कि एक बार कुछ लोग उनके पास आए। वे हिंदी में बोल रहे थे और इलेक्ट्रिक मैन को कुछ भी समझ में नहीं आ रहा था। उन लोगों ने करंट-तार और बॉर्डर की बात की। बीच में राजमोहन ने सुना कि वे किसी हथियार की बात कर रहे थे। वह डर गए। नायर को लगा कि वे उन्हें मार डालेंगे। वह जान बचाकर भागे और सीधे पुलिस के पास पहुंच गए।

टेस्ट 1- मिक्सी स्टार्ट

इंटरव्यू के लिए मीडिया के लोग आएं या करतब दिखाना हो तो राजमोहन तीन बड़े टेस्ट खुद पर करके दिखाते हैं। सबसे पहले वह मिक्सी टेस्ट करते हैं। 700 वॉट की मिक्सी 220 वोल्ट पर चलाने में करीब 3 एंपियर करंट का इस्तेमाल होता है। यह इतना करंट होता है कि हमारे शरीर को झुलसा दे। राजमोहन तार का एक सिरा अपने मुंह में जीभ से पकड़ते हैं और जैसे ही दूसरा सिरा अपने सिर से लगाते हैं, मिक्सी स्टार्ट हो जाती है। शरीर को छूते ही मिक्सी की घरघराहट सुनाई देने लगती है और जैसे ही वह शरीर से तार दूर करते, मिक्सी बंद हो जाती है। पिछले 40 साल से वह इसी तरह करंट से खेल रहे हैं।

टेस्ट 2- फैन टेस्ट

राजमोहन ने कई इंटरव्यू में फैन टेस्ट करके दिखाया है। वह नंगे तार का एक सिरा मुंह में रखते और दूसरा सिरा पैर के नीचे दबा लेते। यह अर्थिंग वाली स्थिति बन जाती और टेबल फैन चलने लगता। जैसे इंसान कोई साधना करता है उसी तरह राजमोहन तारों को पकड़े हुए बड़े आराम से कूल बने रहते लेकिन देखने वाले सन्न रह जाते। इतना करंट शरीर से गुजरने के बाद भी वह एक खोजी वैज्ञानिक के रूप में रीडिंग लेते और प्रक्रिया में तल्लीन दिखाई देते है।

विज्ञान के सारे रूल यहां फेल हो जाते हैं। यह अविश्वसनीय लगता है पर जो दिखाई दे रहा है, उसे झुठलाया भी नहीं जा सकता है। 100 वॉट का बल्ब शरीर में दौड़ते करंट से जलाया, 700 वॉट की मिक्सी चलाई। आखिर राजमोहन कैसे कर लेते हैं? यह सवाल आपको भी परेशान कर सकता है।

बिजली की ताकत

बिजली कितनी खतरनाक होती है? इसे आसान भाषा में जान लीजिए। वोल्टेज का मतलब होता है बिजली की शक्ति और घरों में 220 वोल्ट की सप्लाई होती है। करंट का मतलब होता है बिजली का प्रवाह और अलग-अलग उपकरणों को चलाने के लिए अलग-अलग एंपियर की बिजली लगती है। जैसे, 100 वॉट के बल्ब को जलाने के लिए .45 एंपियर करंट लगता है। 150 वॉट के टेबल फैन को चलाने के लिए .68 एंपियर करंट लगता है। अब इंसानी शरीर की इससे तुलना करिए तब पता चलेगा कि राजमोहन जो करते हैं वह कितना अकल्पनीय है।

आपको जानकर हैरानी होगी कि .25 एंपियर करंट भी अगर 5 सेकंड के लिए इंसान के शरीर से प्रवाहित हो तो शरीर झुलस जाएगा, धड़कनें बंद हो जाएंगी और जल्द ही मौत हो जाएगी। लेकिन इलेक्ट्रिक मोहन के लिए तो यह एक आम स्टंट जैसा है। एक्सपर्ट बताते हैं कि 220 वोल्ट के करंट से मसल्स जल सकती है और जान जा सकती है।

तीसरा और सबसे खतरनाक टेस्ट

राजमोहन किचन से कच्चा चिकन लेकर आते हैं। उस पर नमक, मिर्च और मसाला अच्छे से लगाते हैं। इसके बाद वह भगवान के सामने हाथ जोड़ लेते हैं। देखने वालों को लगेगा कि शायद इस करतब से वह खुद भी डरते हैं? पूछने पर नायर बताते हैं कि मैंने अपने जीवन में कोई भी गलत काम नहीं किया है। मैं ईश्वर में विश्वास करता हूं। वह ईश्वर का आशीर्वाद लेना चाहते थे।

ईश्वर की आराधना करने के बाद राजमोहन लंबे नंगे कॉपर वायर को अपने शरीर से लपेट लेते हैं। जैसे किसी मोटर में कॉपर वायरिंग की जाती है, कुछ वैसा ही। कॉपर वायर से बना एक और रिंग वह गले में पहन लेते हैं। एक प्लेट को उन्होंने पूरे सर्किट से जोड़ दिया। उनके हाथ की यह प्लेट इंडक्शन की तरह बन गई। बिजली दौड़ने लगी। वह प्लेट पर तेल की बूंद डलवाते हैं और तार से पैर से दबाकर अर्थिंग बना लेते हैं। प्लेट पर चिकन रखा जाता है और धीरे-धीरे धुआं उठने लगता है। पास खड़ा कोई दूसरा व्यक्ति चिकन पलटता है, जैसे कड़ाही में खाना बन रहा हो। करीब 10 मिनट तक शरीर से 5 एंपियर से ज्यादा करंट गुजरने के बाद चिकन पूरी तरह से पक जाता है। यहां समझ लीजिए कि इतना करंट दूसरे किसी इंसान के शरीर से गुजरे तो हड्डी भस्म हो सकती है।

दिमाग चकरा गया न आपका। डॉक्टर बताते हैं कि हो सकता है कि नायर का बॉडी रजिस्टेंस बहुत ज्यादा हो। इससे इलेक्ट्रिसिटी एक एंड से दूसरे एंड में निकल जाएगी और शरीर को कोई नुकसान नहीं होगा। हालांकि उनकी जांच करने वाले डॉक्टरों का कहना है कि राजमोहन बिल्कुल आम इंसान की तरह ही हैं। उनका ब्लड प्रेशर नॉर्मल है। स्टंट के दौरान भी शरीर में कोई बदलाव नहीं आता है।

आखिर में हम आपसे इतना जरूर कहेंगे कि अजूबे इंसान राजमोहन नायर के बारे में पढ़कर कभी ट्राई करने के बारे में सोचिएगा भी नहीं। जानलेवा हो सकता है।